क्या आपके घर में इस दिशा में सूंड वाले गणपति हैं? तो ये खबर आपके लिए…

हिन्दू शास्त्र में कोई भी शुभ काम करने से पहले हम सभी लोग देवो के देव महादेव के पुत्र  भगवान श्री गणेश की पूजा की पूजा करते है. सभी देवी-देवताओं में भगवान श्री गणेश प्रथम पूजनीय माने जाते हैं, इसलिए घर हो या दुकान सभी जगह गणेश जी की मूर्ति या फोटो रखी जाती है. लेकिन क्या आप जानते हैं कि यदि सही समय पर और सही तरीके से भगवान गणेश की मूर्ति की स्थापना की जाए तो घर में हमेशा सुख-समृद्धि बनी रहती है. आज हम आपको बताते हैं कि श्री गणेश की मूर्ति स्थापित करते समय किन-किन बातों का ध्यान रखना चाहिए-

Image result for दिशा में सूंड वाले गणपति

गणेश चतुर्थी

का पर्व है और इसके लिए सभी तैयारी में लगे हुए हैं. हर जगह गणेश जी की प्रतिमा देखने को मिल रही है, तरह तरह की और सुंदर सुंदर गणेश प्रतिमा बाजार में आ रही हैं जिन्हें श्रद्धालु खरीदते हैं और उन्हें पूजते हैं. भगवान गणेश रिद्धि सिद्धि के देव माने जाते हैं और हर विघ्न ही हरने वाले माने जाते हैं जिसके चलते उन्हें प्रथम पूज्य भी माना जाता है. भाद्रपद माह में शुक्ल चतुर्थी के दिन मध्याह्न काल में श्रीगणेश का जन्म हुआ था, इसलिए हर साल ये पाव बड़ी ही धूमधाम से मनाया जाता है और यह पर्व 10 दिनों तक चलता है.

Image result for दिशा में सूंड वाले गणपति

गणेश चतुर्थी पर सभी गणेश प्रतिमाएं अपने अनुसार घर में लेकर आते हैं और उन्हें स्थापित करते हैं और दस दिनों बाद उन्हें विदा कर देते हैं. ऐसे में खास बात ये आती है कि गणेश जी की सूंड किस तरह की शुभ मानी जाती है. इसमें लोग अक्सर सोच में पड़ जाते हैं. तो आज हम आपको बता देते हैं कि गणेश जी की सूंड किस दिशा में होनी चाहिए. प्रतिमा में कई बार दाईं और बाईं ओर वाले सूंड के गणेश जी दिखाई देते हैं लेकिन माना जाता है कि बाईं ओर सूंड वाले गणपति ज्यादा सिद्ध होते हैं. जिस मूर्ति में सूंड बाईं ओर हो वह शुभ होता है और उसे वाममुखी कहते हैं.

इसके बारे में बता दें, बाई ओर चंद्र नाड़ी होती है जो शीतलता प्रदान करती है एवं उत्तर दिशा अध्यात्म के लिए पूरक है. इतना ही नहीं कहा जाता है कि बाईं ओर की सूंड वाले गणपति हमेशा ही सकारात्मक ऊर्जा प्रदान करते हैं और हर काम शुभ होते हैं. तो जब भी घर में गणेशजी की प्रतिमा लेकर आये बाईं ओर वाले गणपति ही लेकर आये जो आपके लिए शुभ साबित होंगे.

किस जगह कैसी मूर्ति रखना होगा शुभ-

घर में भगवान गणेश की बैठी मुद्रा में और दुकान या ऑफिस में खड़े गणपति की मूर्ति रखना बहुत ही शुभ माना जाता है.

घर या दुकान में मूर्ति रखते समय ध्यान रखें कि उनके दोनों पैर जमीन को स्पर्श कर रहे हों. इससे कामों में स्थिरता और सफलता आती है.

यदि आप चाहते हैं कि आपके घर में सभी कार्य मंगलमय हो तो आपको सिंदूरी रंग के गणपति की आराधना करनी चाहिए. ऐसा करने से सभी मनोकामनाएं जल्दी पूरी हो जाती हैं.

किस ओर हो श्री गणेश की सूंड-

गणेश जी की मूर्ति की स्थापना के समय इस बात का ध्यान रखें की उनकी सूंड बाएं हाथ की ओर घुमी हुई हो. दाएं हाथ की ओर घुमी हुई सूंड वाले गणेश जी हठी माने जाते हैं.

मूर्ति में ये दो चीजें अवश्य हों-

घर में श्री गणेश का चित्र लगाते समय ध्यान रखें कि चित्र में मोदक और चूहा अवश्य हो. इससे घर में बरकत रहती है.

मेन गेट पर कैसे लगाएं भगवान गणेश की मूर्ति-

घर के मेन गेट पर गणपति की दो मूर्ति या चित्र लगानी चाहिए. दोनों मूर्तियों को ऐसे लगाएं कि दोनों गणेश जी की पीठ आपस में मिली रहे. ऐसा करने से सभी वास्तु-दोष खत्म हो जाते हैं.

सुख-शांति के लिए घर लाएं ऐसी मूर्ति-
घर में खुशहाली बनाए रखने के लिए अपने घर सफेद रंग के बप्पा लाएं.

घर में इस जगह जरूर लगाएं श्रीगणेश का चित्र-

घर के केंद्र में और पूर्व दिशा में मंगलकारी श्री गणेश की मूर्ति लगाना बेहद शुभ माना जाता है.

Back to top button
E-Paper