UGC का नया कैलेंडर जारी, जानें एग्जाम, एडमिशन और नए सत्र की तारीखें

यूनिवर्सिटी ग्रांट कमीशन (UGC) ने सभी कॉलेजों और विश्वविद्यालयों को 30 सितंबर तक अंडरग्रेजुएट कोर्सों के लिए दाखिला प्रक्रिया पूरी करने और 1 अक्टूबर से नया अकादमिक सत्र शुरू करने को कहा है।महामारी से पहले जुलाई से नये सत्र की शुरुआत होती थी, लेकिन पिछले साल से इसमें देरी हो रही है।UGC ने कहा है कि दूसरे और तीसरे साल के छात्रों के लिए नया सत्र जल्द से जल्द शुरू किया जा सकता है। UGC गाइडलाइंस

31 अगस्त तक लेनी होंगी परीक्षाएं

UGC की तरफ से जारी नए अकादमिक कैलेंडर और गाइडलाइंस में कहा गया है कि सभी विश्वविद्यालयों को 31 अगस्त तक तीसरे साल या अंतिम सेमेस्टर की परीक्षाएं खत्म करनी होंगी। ये परीक्षाएं ऑनलाइन, ऑफलाइन या ब्लेंडेड तरीके से ली जा सकती हैं।वहीं पहले और दूसरे साल के छात्रों को उनके पूर्व प्रदर्शन के आधार पर बिना परीक्षा के अगले साल में भेजा जा सकता है। पिछले साल भी UGC ने ऐसी ही सिफारिशें की थीं।अकादमिक सत्र

1 सितंबर से शुरू हो सकती है प्रवेश प्रक्रिया

UGC ने कहा कि कॉलेज और विश्वविद्यालय CBSE, ICSE समेत दूसरे बोर्डों द्वारा परीक्षा परिणाम घोषित होने पर प्रवेश प्रक्रिया शुरू कर सकते हैं।कई राज्य 31 जुलाई तक परिणाम घोषित कर देंगे। इसलिए माना जा रहा है कि 1 सितंबर से कॉलेजों और विश्वविद्यालयों में प्रवेश प्रक्रिया शुरू हो जाएगी, जो 30 सितंबर तक चलेगी। इसके बाद नई कक्षाएं शुरू होंगी।अगर परीक्षा परिणाम में देरी होती है तो कॉलेज 18 अक्टूबर से नया सत्र शुरू कर सकते हैं।अकादमिक सत्र

31 अक्टूबर तक भरी जा सकेंगी खाली सीटें

नए सत्र की शुरुआत के बाद अगर कॉलेजों में सीटें खाली रह जाती हैं, तो उन्हें भरने के लिए 31 अक्टूबर तक का समय दिया जाएगा और छात्रों को 31 दिसंबर तक अपने दस्तावेज जमा कराने होंगे।UGC ने कोरोना संकट के बीच उन छात्रों को फीस कटौती से राहत देने का फैसला किया है, जो 31 अक्टूबर तक एडमिशन वापस लेंगे।वहीं अगर कोई छात्र 31 दिसंबर तक एडमिशन वापस लेता है तो उसके 1,000 रुपये काटे जाएंगे।कोरोना संकट

महामारी के कारण प्रभावित हुई है पढ़ाई

कई विश्वविद्यालयों ने UGC की गाइडलाइंस आने से पहले ही सत्र की शुरुआत करने का विचार बना लिया था।दिल्ली विश्वविद्यालय में 20 जुलाई से तीसरे साल के छात्रों की कक्षाएं शुरू होंगी और 1 सितंबर से दूसरे साल के छात्रों को बुलाया जाएगा।गौरतलब है कि महामारी पिछले साल महामारी की शुरुआत के बाद से स्कूल-कॉलेजों में छात्रों की पढ़ाई पर असर पड़ा है। ऑनलाइन कक्षाएं भी उम्मीदों के अनुरूप नतीजे नहीं दे पाई हैं।

Back to top button
E-Paper