उज्जैनः कोरोना मरीज बढ़ने से जिले के 90 गांव सील, खाचरौद के 20 गांव शामिल

उज्जैन/खाचरौद । कोरोना को लेकर प्रदेश के हॉटस्पाट जिले में शामिल उज्जैन को लेकर प्रशासन सतर्क हो गया है। लॉकडाउन के बावजूद चोरी छूपे व बिना अनुमति जिले में प्रवेश कर रहे लोगों पर नजर रखने के लिए जिला प्रशासन ने 90 गांव की सीमा सील कर दी है। यह गांव रतलाम, इंदौर, देवास, शाजापुर, आगर, धार व राजस्थान के झालावड़ जिले की सीमा से जुड़े हुए हैं। इनमें खाचरौद जनपद पंचायत के 20 गांव शामिल है। प्रत्येक गांव में तीन विभाग के पांच कर्मचारियों को तैनात किया गया है। इसके अलावा पुलिस प्रशासन के अधिन नगर सुरक्षा समिति के सदस्यों को भी तैनात किया गया है।

जिला प्रशासन ने निर्देश दिए हैं कि किसी भी जिले का कोई भी व्यक्ति बीना अनुमति के उज्जैन जिले में प्रवेश नहीं करेगा। साथ ही जिले का व्यक्ति भी अन्य जिले में नहीं जाएगा। अनुमति पात्र व्यक्ति को भी जिला प्रशासन के आदेश पर छोड़ा जाएगा।

वैसे तो उज्जैन जिले की सीमा 7 जिले से मिल रही है। इनमें एक जिला राजस्थान का भी शामिल है। इनमें खाचरौद तहसील रातलाम जिले से मिल रही है। जिसके चलते जिला प्रशासन ने खाचरौद तसहील के 20 गांव मोकड़ी, चापानेर, सकतखेड़ी, चापाखेड़ा, नारेली, रामनगर, मीण, लोचीतारा, ब्राहम्ण खेडी, गोदडा माताजी, पाडलिया खुर्द, जलोद, रिगनिया, रुनेखड़ा, उचाहेड़ा, कनवास, खेडावदा, कमठाना, बंडागांव आदि गांव की सीमा को सील कर दिया।

तीन विभाग के पांच कर्मचारी नियुक्त

जिला प्रशासन ने सीमा सील करने के साथ ही प्रत्येक गांव में तीन विभाग राजस्व, जनपद व शिक्षा विभाग के पांच कर्मचारियों की टीम बनाकर तैनात कि है। इन में राजस्व विभाग के पटवारी, कोटवार, जनपद पंचायत के ग्राम पंचायत सचिव, ग्राम रोजगार सहायक सचिव व शिक्षा विभाग के प्राथमिक शाला के शिक्षक को शामिल किया है। इस के अलावा नगर सुरक्षा समिति के सदस्य को भी शामिल किया गया है।

इनका कहना

कलेक्टर द्वारा जिले के 90 गांव की सीमा सील है। इन में खाचरौद तहसील के 20 गांव शामिल है। प्रत्येक गांव में तीन विभाग के पांच कर्मचारी तैनात किए गए है।
प्रदीप पाल, सीईओ, जनपद पंचायत, खाचरौद

Back to top button
E-Paper