यूपी : सीएम के आगमन के पहले बीटीसी प्रशिक्षुओं का हल्ला-बोल…

  • छात्राओं ने कहा चौराहे पर पानी से भिगोना 
  • चतुर्थ सेमेस्टर की परीक्षा पुनः अतिशीघ्र कराने 
  • यूपी टेट 2018 परीक्षा को स्थगित कर आगे बढ़ाने 
गोपाल त्रिपाठी 
गोरखपुर। गोरखपुर में सीएम के आगमन के पूर्व बीटीसी 2015  बैच के प्रशिक्षुओं ने मांगो को लेकर उग्र प्रदर्शन किया । प्रदर्शनकारी जुलुस की शक्ल में शास्त्री चौराहे से गोलघर होते हुए मंदिर जाने के लिए आगे बढे तो, पुलिस ने धर्मशाला के ही पास उन्हें रोक दिया। वे उग्र प्रदर्शन करते हुए आगे बढ़ने की कोशिस करने लगे तो पुलिस ने उन पर पानी की बौछार कर उन्हे वही पर रोक दिया ।
शारदीय नवरात्री पर्व के प्रथम दिवस पर मंदिर में कलश स्थापना अनुष्ठान को लेकर सीएम योगी
गोरखपुर दौरे पर आने वाले थे । इसी दौरान ऑल बीटीसी वेलफेयर एसोसिएशन के तत्वावधान में बीटीसी 2015 बैच के सैकड़ो प्रशिक्षु पार्क में इकठ्ठे होकर मांगो को लेकर प्रदर्शन शुरू कर दिया । वे जुलुस की शक्ल में शास्त्री चौराहे से गोलघर, गणेश चौराहा व् काली मंदिर होते हुए मंदिर का घेराव कर सीएम के समक्ष मांगो को रखने को लेकर आगे बढ़ने लगे तो प्रशासन के हाथ पांव फूलने लगा। पुलिस प्रशासन ने उन्हें धर्मशाला सब्जी मंडी के पास ही रोक दिया। उग्र प्रदर्शन शुरू करते हुए जब वे आगे बढ़ने की कोशिस करने लगे तो प्रशासन ने उन पर पानी की बौछार के साथ हल्का बल प्रयोग कर रोक दिया। तो वही पुलिसिया रवैये को लेकर छात्राओं का कहना था कि उनको बीच सड़क पर पानी से भिगोना उचित था? अपने शहर में मुख्यमंत्री से मिलने के लिए इन छात्राओं के उपर बल प्रयोग व पानी की बौछार करना
पुलिस प्रशासन के लिए यह कौन सी दिशा तय करता है
प्रदर्शनकारियों का नेतृत्व करते हुए संगठन के जिलाध्यक्ष अनिल प्रताप ने कहा कि pradesh में बी0टी0सी0 2015 बैच के चतुर्थ सेमेस्टर के 80 हजार प्रशिक्षु हैं। चतुर्थ सेमेस्टर की परीक्षा आठ, नौ व दस अक्टूबर को प्रस्तावित थी, जो प्रशासनिक लापरवाही एवं कुछ आराजक तत्वों के कारण परीक्षा से पूर्व ही पेपर सोशल मीडिया पर लिक हो गई थी। जिस कारण चतुर्थ सेमेस्टर का पेपर निरस्त कर दिया गया। जो बीटीसी 2015 बैच के प्रशिक्षुओं के हित के खिलाफ है। उन्होनें कहा कि सरकार ने उनकी मांगों
गंभीरता से नही लिया तो प्रशिक्षु आगामी शिक्षक भर्ती परीक्षा में शामिल नही हो पाएंगे और उनका भविष्य अधर में लटक जाएगा ।
बीटीसी प्रशिक्षुओं की प्रमुख मांगे
–बीटीसी 2015 बैंच के चतुर्थ सेमेस्टर की निरस्त परीक्षा इसी सप्ताह में करायी जाय।
–यू0पी0 टेट 2018 की परीक्षा जो 04 नवम्बर को होनी थी उसे 01 माह के लिए आगे बढ़ाया जाय।
Back to top button
E-Paper