24 घंटे में 10 हत्याओ से थर्राया यूपी

लखनऊ,। उत्तर प्रदेश में कानून का राज कायम करने के लिए पुलिस भले ही एनकाउंटर अभियान चला रही हो, लेकिन अपराध रुकने का नाम नहीं ले रहा है। पिछले 24 घंटे के भीतर इलाहाबाद, गाजियाबाद, सीतापुर, फतेहपुर, रायबरेली, बागपत और देवरिया जिले में हत्या की घटनाएं हुई हैं।

जानिए पूरा मामला 

इनमें मरने वालों में तीन पुरुषों में एक पुलिस अफसर भी शामिल  है। सात महिलाओं में चार नाबालिग, एक वृद्धा, एक विवाहित और एक युवती है।  हत्याओं के क्रम में सबसे पहले गाजियाबाद जनपद की घटना है। यहां के मसूरी थाना क्षेत्र के एक खेत में मंगलवार की सुबह नित्यक्रिया को निकले ग्रामीणों ने युवती का शव देख पुलिस को सूचित किया। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर घटनास्थल की जांच की, लेकिन तमाम प्रयासों के बावजूद मृतका की पहचान नहीं हो सकी है। वहीं, कपड़ों की दशा को देखकर प्रथम दृष्टया युवती संग दुष्कर्म के बाद हत्या की आशंका जताते हुए पुलिस मामले की जांच शुरु कर दी है। अमेठी जनपद में दारोगा के पद पर तैनात धर्मेन्द्र सिंह का शव मंगलवार की सुबह उसके पैतृक गांव रायबेरली के बछरवां में मिला है।

Image result for क्राइम

सोमवार की देर रात अज्ञात बदमाशों ने सोते वक्त धर्मेन्द्र की कुल्हाड़ी से काटकर निर्मम हत्या कर दी है। मंगलवार की सुबह सूचना पर पहुंची पुलिस ने हत्या का मुकदमा दर्ज कर विवेचना शुरु कर दी है।  फतेहपुर जिले के बिंदकी थाना क्षेत्र के रहमतपुर गांव में सोमवार की रात वृद्धा राधा देवी उर्फ रभिया (70) की गला काट कर हत्या कर दी गयी। बेटे दिनेश ने बताया कि वह रात में नलकूप चला गया था। देर रात जब घर आया तो ताला लगा हुआ था। ताला तोड़कर जब कमरे के भीतर पहुंचा तो देखा उसकी मां की हत्या कर दी गई है। सीओ अभिषेक तिवारी ने बताया कि मृतका के बेटे दिनेश कुमार ने अज्ञात के खिलाफ हत्या का मुकदमा पंजीकृत कराया है। मामले की जांच की जा रही है। इलाहाबाद जनपद के धूमनगंज के पीपलगांव निवासी मनोज कुशवाहा ने सोमवार की रात पत्नी साधना और तीन बेटी सृष्टि (08), शिवानी (06) और सोनू (03) की हत्या कर खुद को फांसी लगा ली है।

पुलिस की तफ्तीश में यह पता चला है कि मनोज ने सभी की गला घोटकर हत्या की है। मनोज का शव फांसी पर लटका हुआ था, फर्श पर शिवानी का शव, अलमारी में सृष्टि व बेटी सोनू का शव अटैची में मिला है। पुलिस की प्राथमिक जांच में परिवारिक कलह के चलते मनोज ने पत्नी और बेटियों की हत्या के बाद खुद को फांसी लगायी है। फिलहाल पुलिस हत्या और आत्महत्या के मामले की जांच कर रही है।  सीतापुर जनपद के सदरपुर इलाके में सोमवार को 14 साल की बालिका की चाकू से गोदकर हत्या कर दी गयी। इसके अलावा उसका गला उसी के कुर्ते से कसा हुआ था। कपड़े भी अस्त-व्यस्त थे। जिससे बालिका संग दुष्कर्म की भी आशंका जताई जा रही है।

क्या कहते है क्षेत्राधिकारी

इस सम्बन्ध में क्षेत्राधिकारी जावेद खान का कहना है कि अज्ञात के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कर जांच की जा रही है। बागपत में पुरा के परशुरामेश्वर मन्दिर में जलाभिषेक कर लौट रहे सजायाफ्ता कैदी पप्पू की (40) की मन्दिर से करीब 300 मीटर दूरी पर दो अज्ञात बदमाशों ने दिनदहाड़े गोली मारकर हत्या कर दी गयी थी। पप्पू के भाई सत्यवीर ने भाई की हत्या का आरोप दिवंगत सेवानिवृत्त एएसआई ऋषिपाल के भतीजे दीपक और उसके साथी पर लगाया है। एसपी जयप्रकाश ने बताया कि मृतक पप्पू रिटायर्ड एएसआई ऋषिपाल की हत्या के मामले में बागपत कोर्ट में आजीवन कारवास की सजा सुनायी गयी थी। वह जमानत में रिहा था। फिलहाल परिवार की ओर मिली के आधार पर कार्रवाई की जा रही है।

Back to top button
E-Paper