BIG BREAKING : IPS सुरेंद्र दास का निधन, पारिवारिक कलह में खाया था जहर…

लखनऊ/कानपूर : बीते मंगलवार को संदिग्ध परिस्थितियों में जहरीला पदार्थ खाने वाले कानपुर के एसपी पूर्वी पद पर तैनात IPS अधिकारी सुरेंद्र दास की आज मौत हो गई।। शनिवार को ही उनके कई अंगों ने काम करना बंद कर दिया था। सुरेंद्र दास का इलाज कर रहे डॉक्टर राजेश अग्रवाल ने कहा कि हमारी टीम आईपीएस अधिकारी को बचाने में असफल रही।

आईपीएस सुरेंद्र दास

बता दें कि शनिवार की दोपहर सुरेंद्र दास की हालत ज्यादा खराब हो गई थी। ऑपरेशन के लिए डॉक्टरों ने आईसीयू वार्ड को ही ऑपरेशन थियेटर बना दिया था। सुरेंद्र दास के पैर में खून का थक्का बन जम गया था जिसकी वजह से उनके पैरों में बल्ड की सप्लाई नहीं हो पा रही थी।

आईपीएस सुरेंद्र कुमार दास

IPS दास ने बुधवार सुबह कैंट स्थित सरकारी आवास में जहर खा लिया था। हालत बिगड़ने पर परिजन और मातहत पुलिसकर्मी उन्हें उर्सला ले गए। वहां से डॉक्टरों ने उन्हें सर्वोदय नगर स्थित रीजेंसी अस्पताल रेफर कर दिया। जहां लगातार उनकी हालत गंभीर बताई जा रही थी।
बैचमेट सुरेंद्र दास को बचाने के लिए 16 आईपीएस अफसर दिन-रात जद्दोजहद कर रहे थे। यूपी, दिल्ली में एक्मो मशीन नहीं मिली तो साथियों ने मशक्कत कर केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की मदद से मुंबई से मशीन और डॉक्टरों की टीम चार्टर प्लेन से बुलाई। कानपुर में रीजेंसी अस्पताल के डॉक्टरों का कहना है कि विदेश के भी किसी हॉस्पिटल में सुरेंद्र को इलाज के लिए भर्ती कराते तो इसी तरह से इलाज किया जाता। इससे बेहतर और कुछ नहीं हो सकता था।
आईपीएस सुरेंद्र के सुसाइड करने के पांच दिन बाद भी कोई ठोस वजह सामने नहीं आई है।

पत्नी रवीना के परिजन डटे, बलिया से भी पहुंचे रिश्तेदार

सुरेंद्र दास की पत्नी डॉ. रवीना के परिजन शुक्रवार को पूरा दिन अस्पताल में डटे रहे। हर पल की जानकारी लेते रहे। एसपी पूर्वी की मां इंदूदेवी और भाई नरेंद्र दास भी मौजूद रहे।

दोस्त की जिंदगी बचाने के लिए 16 आईपीएस अफसर कर दिन रात जद्दोजहद

बैचमेट IPS अधिकारी सुरेंद्र दास को बचाने के लिए 16 आईपीएस अफसर दिन रात जद्दोजहद कर रहे थे। यूपी, दिल्ली में एक्मो मशीन नहीं मिली तो छह साथियों ने मशक्कत की और केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की मदद से मुंबई से मशीन और डॉक्टरों की टीम चार्टर प्लेन से बुलाई गई।

 

Back to top button
E-Paper