यूपी के फूटा कोरोना बम : प्रतापगढ़ में पांच नए मिले (+), संख्या पहुंची 44 , बस्ती में अजमत की कोरोना से मौत

प्रतापगढ़ । प्रतापगढ़ जिले में कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्तियों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। पांच नए व्यक्तियों में कोरोना वायरस पॉजीटिव मिलने के बाद जनपद में कोरोना संक्रमितों की संख्या 44 हो गयी है।

मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ अरविन्द श्रीवास्तव ने मंगलवार को बताया कि पट्टी कोतवाली क्षेत्र के सलाहपुर गांव में एक ही परिवार के तीन लोगों की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है और कुण्डा तहसील क्षेत्र के दो लोग भी कोरोना संक्रमित पाये गये हैं। अब तक कोरोना संक्रमित व्यक्तियों की संख्या 44 हो गयी है।

पट्टी कोतवाली क्षेत्र के सलाह पुर गांव के एक ही परिवार के तीन लोग कोरोना संक्रमित पाये गये हैं। कुण्डा कोतवाली क्षेत्र के तिलौरी विक्रम पुर गांव में एक युवक कोरोना संक्रमित मिला है वहीं हथिगंवा थानाक्षेत्र के कैमा मस्तापुर में एक संक्रमित पाया गया है। जहां दोनों गांवों में एक-एक संक्रमित पहले ही मिल चुके हैं जिनका इलाज प्रयागराज में चल रहा है। जनपद में बढ़ रही कोरोना संक्रमितों की संख्या से लोगों की चिंताएं बढ़ गयी हैं। सभी को गाय घाट स्थिति कोविड अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया है। सभी लोग मुम्बई से लौट कर आये थे। सभी गांव की सीमा को सील कर दिया गया है।

बस्ती : हसनैन के बाद अजमत की कोरोना से मौत
बस्ती । जिले में कोरोना से एक और मौत हुई हो गई। मृतक मुंबई से बस्ती आया था। जिसकी मौत के बाद रिपोर्ट पॉजिटिव आयी है। चार बार हुए थर्मल स्क्रीनिंग के बावजूद हुई मौत से जिले में एक बार फिर दहशत है।

गौरतलब है कि इससे पहले 30 मार्च को हसनैन की मौत भी कोरोना से हुई थी, जिसकी रिपोर्ट बाद में पॉजिटिव निकली थी। मरने वाला मुम्बई से पिछले कुछ दिन पूर्व रुधौली इलाके में स्थित अपने घर पहुंचा था। जिले में एक बार फिर कोरोना ने कहर बरपाया है, जिसमें अजमत नाम के शख्स की मौत हुई है। मुंबई में सिलाई का काम करने वाले इस शख्स की मौत घर पहुंचने के दो दिन बाद हुई है। 55 साल का अजमत प्रवासी मजदूरों के लिए सरकार द्वारा चलाए जा रहे अभियान के तहत बस्ती 15 मई को पहुंचा था।

इलाज कर रहे डाक्टरों की मानें तो इसकी चार बार थर्मल स्क्रीनिंग हुई थी बावजूद इसके किसी स्तर पर नहीं पता चल सका। अजमत कोविड-19 का शिकार है। घर पहुंचने के बाद जब इसकी हालत लगातार बिगड़ने लगी तो सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर लाया गया, जहां डॉक्टरों ने इलाज शुरू किया। बाद में बीआरडी मेडिकल कालेज गोरखपुर रिफर कर दिया गया, जहाँ 24 घंटे के भीतर ही उसकी मौत हो गई।

रिपोर्ट की जानकारी देते हुए जिलाधिकारी आशुतोष निरंजन ने बताया की जनपद में कोरोना से हुई मौत का आंकड़ा दो हो गया है, जबकि कुल प्रभावित मरीजों के संख्या 54 है। जिसमें 25 कोरोना पॉजिटिव है।

Back to top button
E-Paper