VIDEO: पराठा खिला रही महिलाओं से बोलीं प्र‍ियंका गांधी-मेरे भाई ने कहा है कम खाया करो, मोटी हो रही हो

उत्तर प्रदेश में कांग्रेस ने आज से प्रतिज्ञा यात्रा (हम वचन निभाएंगे) की शुरुआत की। बाराबंकी में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने यात्रा को हरी झंडी दिखाई। इससे पहले वे लखनऊ से बाराबंकी के रास्ते में तमरसेपुर गांव में खेतों में काम कर रहीं महिलाओं से मिलीं। प्रियंका खेत में ही महिलाओं के बीच बैठ गईं। इस दौरान महिलाओं ने अपने हाथों से प्रियंका को जलेबी खिलाई।

इसी दौरान जब एक महिला प्रियंका को अपने हाथों से पराठा खिलाने लगी, तो उन्होंने कहा, ‘मेरे भाई ने कहा है, कम खाया करो, मोटी हो रही हो।’ इसके बाद एक बुजुर्ग महिला ने एक कैमरामैन का माइक ले लिया। इस पर प्रियंका ने कहा अब महिलाएं माइक भी संभालेंगी और सत्ता भी लेंगी।

प्रियंका ने कहा कि मैं महिलाओं से उनकी परिस्थितियों को समझना चाहती थी। ये जानना चाहती थी कि वे अपनी बेटियों की परवरिश कैसे कर रही हैं। वे उन्हें शिक्षित करने में सक्षम हैं। बाराबंकी में तिरंगा यात्रा निकालने से पहले प्रियंका ने कांग्रेस की सात प्रतिज्ञाओं का ऐलान किया। प्रियंका गांधी ने यहां नया नारा गढ़ा। कहा, बिजली बिल सबका हाफ, कोरोना काल का बकाया साफ। कोरोना की आर्थिक मार, परिवार को देंगे 25 हजार, 20 लाख को सरकारी रोजगार।

ये हैं सात प्रतिज्ञाएं

  • टिकटों में महिलाओं की 40 प्रतिशत हिस्सेदारी
  • छात्राओं को स्मार्टफोन और स्कूटी
  • किसानों का पूरा कर्जा माफ
  • 2500 में गेहूं धान, 400 पाएगा गन्ना किसान
  • बिजली बिल सबका हाफ, कोरोना काल का बकाया साफ
  • दूर करेंगे कोरोना की आर्थिक मार, परिवार को देंगे 25 हजार
  • 20 लाख को सरकारी रोजगार
 

किसानों की कहीं सुनवाई नहीं हो रही
प्रियंका ने कहा, किसानों की कहीं भी सुनवाई नहीं हो रही है। कांग्रेस की सरकार थी, किसानों की सुनवाई हुआ करती थी। इतने दिनों से किसान धरना दे रहे हैं, कोई भी सुनवाई नहीं की जा रही है। सरकार पूरी तरीके से अत्याचार करने पर उतारू है।

पूर्व पीएम राजीव गांधी ने एक बार कार्यक्रम कैंसिल करके किसानों की सुनवाई की थी। यह सरकार कहती है कि बहुत विकास हुआ है, लेकिन असल में कोई विकास नहीं हुआ। कानून व्यवस्था में नंबर वन होने का दावा करते हैं और रोज प्रदेश में अपराध की घटनाएं हो रही हैं।

 

12 हजार किमी दूरी तय करेगी यात्रा
यह यात्रा एक नवंबर तक होगी, जो कुल 12 हजार किमी की दूरी तय करेगी। इस दौरान लोगों को कांग्रेस की सात प्रतिज्ञाएं बताई जाएंगी। 31 अक्टूबर को गोरखपुर में प्रियंका की बड़ी रैली होने वाली है। यूपी में सत्ता से 32 सालों से बाहर कांग्रेस को प्रतिज्ञा यात्रा से बड़ी आस है।

यूपी में चुनावी एजेंडा सेट करने में जुटी प्रियंका गांधी का फोकस महिला, दलित और मुस्लिम वोटरों पर है। प्रियंका यूपी में 40% सीट महिलाओं को और 12वीं पास लड़कियों को स्मार्टफोन और ग्रेजुएट पास को स्कूटी देने का ऐलान कर चुकी हैं।

 

वाराणसी में परमिशन नहीं मिली, सहारनपुर में रवाना
कांग्रेस कुल चार प्रतिज्ञा यात्रा निकालेगी। पहले चरण में बाराबंकी और सहारनपुर से यात्राएं शुरू हो चुकी हैं, लेकिन वाराणसी में अभी परमिशन नहीं मिली है। यहां कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी टाउनहाल स्थित गांधी प्रतिमा पर माल्यार्पण कर चार पहिया वाहन से सांकेतिक रूप से यात्रा निकालेंगे। चौथा चरण दिवाली पर शुरू होगा। जानिए तीन यात्राओं का रूट और पड़ाव।

  • पहला रूट: (बाराबंकी-बुंदेलखंड)– बाराबंकी से शुरू होकर झांसी में समाप्त होगी। इसमें लखनऊ, उन्नाव, फतेहपुर, चित्रकूट, बांदा, हमीरपुर, जालौन जिले शामिल हैं। इस रूट का नेतृत्व पूर्व सांसद पीएल पुनिया, पूर्व केंद्रीय मंत्री प्रदीप जैन आदित्य और मीडिया विभाग के चेयरमैन व पूर्व मंत्री उत्तर प्रदेश सरकार नसीमुद्दीन सिद्दीकी कर रहे हैं।
  • दूसरा रूट: (वाराणसी-अवध) वाराणसी से शुरू होकर रायबरेली में समाप्त होगी। जिसमें चंदौली, सोनभद्र, मिर्जापुर, प्रयागराज, प्रतापगढ, अमेठी जिले शामिल हैं। इस रूट का नेतृत्व पूर्व सांसद प्रमोद तिवारी, पूर्व सांसद राजेश, पूर्व विधायक नदीम जावेद कर रहे हैं।
  • तीसरा रूट( पश्चिम जोन)- सहारनपुर से शुरू होकर मथुरा में समाप्त होगी। जिसमें मुजफ्फरनगर, बिजनैर, मुरादाबाद, रामपुर, बरेली, बदायूं, अलीगढ़, हाथरस, आगरा जिले शामिल हैं। जिसका नेतृत्व पूर्व केंद्रीय मंत्री सलमान खुर्शीद एवं लखनऊ से कांग्रेस के पूर्व सांसद प्रत्याशी आचार्य प्रमोद कृष्णन कर रहे हैं।
वाराणसी में प्रमोद तिवारी ने कहा, देश की आध्यात्मिक राजधानी काशी से हम सब अपनी प्रतिज्ञा यात्रा की शुरुआत करेंगे। उसके लिए हमें अनुमति नहीं मिली।
 
सहारनपुर में आचार्य प्रमोद कृष्णन ने कहा, कांग्रेस को किसी भी राजनीतिक दल से गठबंधन नहीं करना है। भाजपा सरकार अपने कर्मो के कारण ही जा रही है और कांग्रेस आ रही है।
 

समाजवादी गढ़ में कांग्रेस का सेंध लगाने का प्लान
अवध क्षेत्र में दो मंडल फैजाबाद और लखनऊ थे, जिसमें 12 जिले आते थे। फैजाबाद मंडल मायावती शासनकाल में विभाजित होकर अब सरयू के उस पार का मंडल देवीपाटन बन गया है। प्रतापगढ़ (अवध) इलाहाबाद मंडल में शामिल कर दिया गया है। राजीव गांधी, सोनिया गांधी और राहुल गांधी जिस अमेठी क्षेत्र से चुनाव लड़े और जीते, वह फैजाबाद मंडल का ही अंग है।

अवध क्षेत्र में राजधानी लखनऊ के अलावा सीतापुर, उन्नाव, हरदोई, रायबरेली और बाराबंकी जिले की कुल 38 विधानसभा सीटें आती हैं। तुलनात्मक रूप से देखा जाए तो समाजवादी पार्टी एक ऐसी पार्टी है जो इस क्षेत्र में हर बार अन्य सभी दलों पर भारी पड़ी है।

साल सपा बसपा भाजपा कांग्रेस अन्य सरकार बनी
1996 14 8 11 4 1 बसपा+भाजपा
2002 14 11 10 1 2 बसपा+भाजपा
2007 12 15 4 5 2 बसपा
2012 29 5 1 2 1 सपा
Back to top button
E-Paper