कौन बनेंगे भारत के अगले राष्ट्रपति 21 जुलाई को होगा तय, जाने कार्यकाल के दौरान मिलने वाली सुविधाएं

भारत में राष्ट्रपति ना सिर्फ देश के पहले नागरिक होते हैं साथ ही साथ देश के संवैधानिक मुखिया भी होते हैं। हालांकि सार्वजनिक तौर पर प्रधानमंत्री के अपेक्षा राष्ट्रपति की उपस्थिति कम जरूर होती है, लेकिन इनके पद का एक विशेष महत्व होता है।

21 जुलाई को मिलेंगे भारत को 15वे राष्ट्रपति

भारत में राष्ट्रपति चुनाव की घोषणा हो चुकी है। वर्तमान में भारत के राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद है जिनका कार्यकाल 24 जुलाई को पूरा हो जाएगा। कोविंद भारत के 14वें राष्ट्रपति है। राष्ट्रपति के लिए वोटिंग की तारीख 18 जुलाई को तय की गई है। 21 जुलाई को भारत को नए राष्ट्रपति मिल जाएंगे जो कि क्रम से पंद्रहवे राष्ट्रपति बनेंगे।

हालांकि 21 जुलाई को ही फाइनल जरूर हो जाएगा कि भारत के अगले राष्ट्रपति कौन होंगे।लेकिन कार्य भार वह 24 जुलाई के बाद ही शुरू करेंगे। भारत में राष्ट्रपति का चुनाव निर्वाचक मंडल के सदस्य करते है। जिसमें राज्यसभा सदस्य ,लोकसभा सांसद के साथ ही साथ राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों के विधानसभा के सदस्य अर्थात विधायक भी शामिल होते हैं।

राष्ट्रपति के वेतन,भत्ते और अन्य सुविधाएं क्या हैं

भारत में राष्ट्रपति का पद सर्वोच्च होता है। राष्ट्रपति को देश का प्रथम नागरिक ,संवैधानिक मुखिया तथा तीनों सेनाओं जल थल एवं वायु का प्रमुख माना जाता है। वर्ष 2016 तक राष्ट्रपति का वेतन डेढ़ लाख रुपए प्रतिमाह हुआ करता था, लेकिन वर्ष 2017 से इसे बढ़ाकर पाँच लाख रुपये प्रतिमाह कर दिया गया है। हालांकि भारत में वर्तमान राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कोविड-19 के समय सैलरी में 30% कटौती की बात पर सहमति जताई थी ।तो वर्ष 2020 राष्ट्रपति 30% कटौती के साथ वेतन प्राप्त कर रहे हैं।राष्ट्रपति के लाइफ पार्टनर को भी ₹30,000 प्रतिमाह सेक्रेटरी सहायता के तौर पर दिया जाता है। कार्यकाल पूरा होने के बाद भी राष्ट्रपति को कई तरह की सुविधाएं मिलती हैं। जैसे पेंशन के तौर पर डेढ़ लाख रुपये प्रतिमाह दिया जाता है। रहने के लिए एक बंगला तथा उस बंगले के कर्मचारियों पर खर्च करने के लिए ₹60,000 प्रति माह भी दिया जाता है ।और सरकार के खर्च से चलने वाला एक मोबाइल फोन तथा एक लैंड लाइन कनेक्शन भी राष्ट्रपति को कार्यकाल समाप्त होने के बाद दिया जाता है।

प्रतिवर्ष 22.5 मिलियन का खर्च आता है राष्ट्रपति के रहन सहन पर

कार्यकाल के दौरान राष्ट्रपति का आवास नई दिल्ली स्थित राष्ट्रपति भवन होता है जो कि आधिकारिक निवास स्थान है ।यह 5 एकड़ में बना हुआ है जिसमें 340 कमरे हैं तथा 200 स्टाफ काम करने के लिए नियुक्त किए जाते हैं। प्रतिवर्ष करीब 22.5 मिलियन रुपए राष्ट्रपति के रहने खाने मेहमानों एवं अन्य खर्चों में किए जाते हैं। राष्ट्रपति के उपयोग के लिए एक मर सीडीज़ बेंज गाड़ी दी जाती है। तथा इसके अलावा राष्ट्रपति के सकॉट में 25 गाड़ियां रहती है। राष्ट्रपति के लिए खास बॉडीगार्ड्स की व्यवस्था रहती है जिन्हें प्रेसीडेंशियल बॉडीगार्ड्स कहां जाता है, इनकी संख्या 86 रहती है।

इन सुविधाओं के अलावा भी राष्ट्रपति को कई सारी सुविधाएं एवं भत्ते जैसे मेडिकल, हाउस, ट्रैवल एलाउंस एवम अन्य भी दिए जाते हैं। राष्ट्रपति और उनके लाइफ पार्टनर पूरी दुनिया की यात्रा प्लेन या ट्रेन से निशुल्क कर सकते हैं। छुट्टियां मनाने के लिए देश में दो खास रिट्रीट बिल्डिंग्स राष्ट्रपति के लिए हैं। जिनमें से एक शिमला में तथा दूसरी हैदराबाद में स्थित है।

Back to top button