इन घरेलू उपायों से आपकी बीमारी जल्दी से हो जाएगी ठीक, जानिए कौन कौन से है उपाय..

वर्तमान समय में मिलेजुले वातावरण के कारण हमारे शरीर के क्रोध के कारण हमारे शरीर का रोग-प्रतिरोधक तंत्र कमजोर हो जाता है। गुजरात राज्य के आयुष निदेशक ने आयुर्वेद प्रणाली को मौसमी रोगों से बचाव और रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए सर्वोत्तम बताते हुए आयुर्वेदिक उपचार का सुझाव दिया है।आयुर्वेद भारत की एक प्राचीन चिकित्सा प्रणाली है, जिसका उपयोग पिछले 1000 वर्षों से किया जा रहा है। आयुर्वेद की प्रभावशीलता और इसके महत्व के कारण, इसके सिद्धांतों और अवधारणाओं का उपयोग आज की आधुनिक दुनिया में भी किया जाता है। आयुर्वेद ऐसे समय में मानव जाति के लिए वरदान साबित हो सकता है जब पूरी दुनिया एक अप्रत्याशित आपदा की तरह कोरोना वायरस की महामारी से जूझ रही है। 

 
आज हम आपको कुछ ऐसी विशेष औषधियों के बारे में बताना चाहते हैं जिनका प्रयोग किसी भी रोग में आयुर्वेद में अनेक रोगों से छुटकारा पाने के लिए किया जा सकता है। प्राचीन काल से लोग जड़ी-बूटियों या जड़ी-बूटियों से बीमारियों का इलाज करते रहे हैं। अधिकांश स्वदेशी उपचारों का कोई रिकॉर्ड नहीं है जो दादा-दादी पीढ़ियों से अपने बच्चों को बता रहे हैं। लोगों में एक आम धारणा है कि घर पर ज्ञात स्वदेशी दवाएं आज की नई दवाओं की तुलना में अधिक सुरक्षित हैं। लेकिन याद रखें, देसी दवाएं भी आपको कुछ नुकसान पहुंचा सकती हैं।

खाने-पीने में इस नियम का पालन करें जौ, बाजरा या मक्का खाना बंद कर दें, रिफाइंड तेल का इस्तेमाल बंद कर दें, धनिये का तेल इस्तेमाल करें, कोल्ड ड्रिंक पीना बंद करें, नींबू का शरबत या छास पिएं, भैंस का दूध पीना बंद करें और गाय का दूध पिएं। रेडीमेड न्यूज के बजाय सीधे फल ही खाएं, फ्रिज का पानी बंद कर दें और पीने योग्य पानी पीएं।


यह प्रयोग और लोगों को भी दिखाएँ: कफ से हमेशा के लिए छुटकारा पाने के लिए। दूध में हल्दी, नमक और गुड़ डालकर गर्म करके पीने से खांसी दूर होती है। रात को सोते समय तीन या चार तोला भुने हुए चने खाई के ऊपर पीने से श्वासनली में जमा कफ निकल जाता है।


हींग प्रयोग हींग को पानी में उबालकर कुल्ला करने से दांत दर्द में आराम मिलता है। दांत हिल रहे हों और दर्द हो रहा हो तो दांतों को हिंग या अक्कलगारा से भरने से आराम मिलता है। सुबह काले तिल के ऊपर थोड़ा सा पानी डालकर पीने से दांत मजबूत होते हैं। दांत निकलने से ढीले दांत मजबूत होते हैं। अनिद्रा दूर करने के लिए प्रयोग सोने से पहले ठंडे पानी से हाथ-पैर धोकर माथे पर घी मलें। एक चौथाई जायफल को पानी के साथ लेने से नींद आती है। पुदीने का पाउडर और अरंडी के तेल को पैरों में मलने से रात को अच्छी नींद आती है। शाम को गांठ खाने और ऊपर से गर्म दूध पीने से नींद आती है।


पेट से संबंधित दो या तीन बुरे रोग होते हैं जैसे बवासीर, बवासीर, बवासीर, फिशर, फिशर इन सभी रोगों के लिए मूली का रस एक उत्तम औषधि है। भोजन के बाद एक कप मूली का रस पिएं। दोपहर में या सुबह में, लेकिन शाम को, सभी प्रकार के बवासीर समान हो जाते हैं, फिस्टुला समान हो जाते हैं, फिस्टुलस, फिशर समान हो जाते हैं। अनार का जूस पीने से भी ऐसा ही होता है।
मस्सा:
 मस्सा से हमेशा के लिए छुटकारा पाने के लिए, छाछ में अदरक का चूर्ण भिगोकर मस्सा को ठीक किया जा सकता है और मस्सा से खून बह रहा है। अगर ऐसा है तो इन्द्रजाव को छास में डुबाने से मस्सा ठीक हो जाता है।
अशक्ति और कमज़ोरी को दूर करने के लिए सूखी खारेक का 500 ग्राम चूर्ण उसमें 5 ग्राम अदरक का चूर्ण मिलाकर प्रतिदिन 200 ग्राम दूध में 5 से 10 ग्राम चूर्ण को थोड़ी सी चीनी के साथ उबालकर सुबह पीयें।
एसिडिटी के लिए इसका प्रयोग करें 100 से 200 ग्राम दूध में थोड़ी सी चीनी और चार या पांच पीस काली मिर्च घी में भूनकर शाम को पीने से एसिडिटी दूर होती है छाछ के साथ सेवन करने से एसिडिटी दूर होती है।

हाई ब्लड प्रेशर के लिए कोई एक्सपेरिमेंट नहीं हाई ब्लड प्रेशर में अगर 15 ग्राम सरगवा का जूस सुबह-शाम सेवन किया जाए तो हाई ब्लड प्रेशर की समस्या से काफी राहत मिलती है। सरगनी में खून की कमी को दूर करने के लिए काफी मात्रा में आयरन होता है इसलिए इसके सेवन से शरीर में हीमोग्लोबिन की मात्रा बढ़ जाती है और साथ ही शरीर के अंदर नए रक्त का निर्माण होता है।
अन्य उपाय दो चम्मच तुलसी के रस में दो काली मिर्च का चूर्ण डालकर सुबह-शाम सेवन करें।

औषधीय पानी: दो चम्मच अदरक को 10 गिलास पानी में धीमी आंच पर उबालें और छान लें जबकि 5 गिलास पानी रह जाए। आवश्यकतानुसार गुनगुना पियें।

धूप: 50 ग्राम सलाई गूगल, 10 ग्राम घोडावज, 10 ग्राम सरसों, 10 ग्राम नीम के पत्ते और 20 ग्राम गाय का मिश्रण बना लें।

इस मौसम में 2 ग्राम झुण्ड का चूर्ण और 1 ग्राम काली मिर्च का चूर्ण शहद के साथ चाटने से मौसमी विकारों से बचाव होता है।
इसके अलावा सरकारी आयुर्वेद अस्पतालों में उपलब्ध विभिन्न अमृत काढ़ों का सेवन करने से ऐसे मौसमी विकारों से भी बचा जा सकता है।

इसी प्रकार आयुर्वेद में वर्णित शोध कार्य एवं रसायन चिकित्सा भी विभिन्न मौसमी विकारों से रक्षा करता है।ऋतु के अनुसार ऋतु के अनुसार किसी विशेषज्ञ आयुर्वेद चिकित्सक की देखरेख में शोध कार्य के रूप में उल्टी करने से ऐसी बीमारियों से बचा जा सकता है। उसी तरह एक चिकित्सक की देखरेख में कीमोथेरेपी का अभ्यास किया जा सकता है।

इस मौसम में नहाने और पीने के लिए गर्म पानी का ही इस्तेमाल करें, ठंडे पानी का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए। इस मौसम में रूखी त्वचा के कारण त्वचा में कई तरह के संक्रमण हो सकते हैं। इसके लिए नीम के पत्ते, गारमाला के पत्ते, कांजी के पत्ते, कसावा के फूल आदि को नहाने के पानी के साथ इस्तेमाल किया जा सकता है।

सुबह और शाम हल्दी को गर्म नमकीन पानी से धोना चाहिए। दही, छास, आइसक्रीम, श्रीखंड, बासुदी जैसी ठंडी, मीठी और खट्टी चीजें न खाएं। खजूर, पॉपकॉर्न, भुने हुए चने जैसी हल्की चीजें खाएं।

सुबह और शाम नाक में गाय या अरंडी के तेल की दो बूंद डालने के लिए हाथ मिलाने के बजाय भारतीय संस्कृति के अनुसार अभिवादन करने के लिए मासिक धर्म चक्र की जानकारी प्राप्त करने के लिए अपने नजदीकी आयुर्वेद अस्पताल में जाएँ।

Back to top button