धरती की ओर 17700 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से बढ़ रहा बुर्ज खलीफा से भी बड़ा Asteroid, वैज्ञानिकों ने कही ये बात…

वॉशिंगटन
धरती की ओर बुर्ज खलीफा से भी बड़ा एस्टरॉइड 17700 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से बढ़ रहा है। अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के अनुसार, 1,870 फीट लंबा यह एस्टरॉइड शनिवार को धरती से 3.1 मिलियन मील की दूरी पर जाएगा। वैज्ञानिकों ने बताया कि इस एस्टरॉइड से धरती को कोई खतरा नहीं है। हालांकि नासा की नजर इसकी गति पर बनी हुई है।

सामान्य आखों से नहीं देखा जा सकता
ब्रिटिस स्टेंडर्ड टाइम के अनुसार, शनिवार को 4.20 बजे (भारत में 8.50 बजे) यह एस्टरॉइड धरती के सबसे पास होगा। इसका नाम 2002 NN4 रखा गया है। इस एस्टरॉयड की लंबाई अमेरिका के एम्पॉयर स्टेट बिल्डिंग से भी ज्यादा है। वैज्ञानिकों ने बताया कि इसे धरती से सामान्य आंखों से नहीं देखा जा सकेगा।

पहली बार 2002 में देखा गया था
इस एस्टरॉइड को पहली बार जुलाई 2002 में देखा गया था। नासा ने इसे संभावित खतरनाक एस्टरॉइड में शामिल किया है। नासा उन नियर अर्थ ऑब्जेक्ट्स (NEO) को खतरनाक सूची में रखता है जिनकी दूरी धरती से 46 मिलियन मील से कम होती है।

6 जून को धरती के नजदीक होंगे 4 एस्टरॉइड
ऐसा नहीं है कि 6 जून को यह अकेला एस्टराइड धरती के नजदीक आएगा। नासा ने बताया कि 6 जून को धरती से 8 मिलियन मील से लेकर 4 मिलियन मील की दूरी में चार एस्टरॉइड होंगे, लेकिन ये 2002 NN4 की तुलना में बहुत छोटे हैं। बाकी के तीन एस्टरॉइड के नाम 2020 KO1, 2020 KQ1 और 2020 KA7 हैं।

एस्टरॉइड अध्ययन के लिए कई मिशन जारी
नासा यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी के अलावा कई अन्य देशों की एजेंसियों के साथ अंतरिक्ष में एस्टरॉइड के गतिविधियों पर नजर रखे हुए है। इन्हें अच्छे से समझने के लिए कई अंतरराष्ट्रीय मिशन भी चल रहे हैं। इनमें से ही एक यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी का हेरा मिशन भी है जो दो एस्टरॉइड का अध्ययन करेगा।

Back to top button
E-Paper