डबल मर्डर केस : RJD के पूर्व सांसद प्रभुनाथ को मिली उम्रकैद की सजा, कोर्ट- बोला- 70 साल की उम्र में भगवान ही मालिक

पटना । राष्ट्रीय जनता दल (RJD) के पूर्व सांसद प्रभुनाथ सिंह को सुप्रीम कोर्ट ने साल 1995 के मशरख डबल मर्डर केस में उम्रकैद की सजा सुनाई है। कोर्ट ने मृतकों के परिवारों को 10-10 लाख रुपए और घायल के परिवार को 5 लाख रुपए मुआवजा देने का आदेश भी दिया है। आपको बता दें कि सुनवाई के दौरान जस्टिस संजय किशन कौल ने कहा- इस मामले में दो विकल्प हैं, या तो हम जीवन दें या मौत। फिर जस्टिस विक्रम नाथ ने पूछा कि प्रभुनाथ सिंह की उम्र कितनी है? उनके वकील ने बताया- 70 साल। इसके बाद जस्टिस ने कहा कि तब तो भगवान ही मालिक हैं। आज से पहले ऐसा केस नहीं देखा।

पटना की अदालत ने बरी किया, हाईकोर्ट ने फैसला बरकरार रखा

प्रभुनाथ सिंह को इस मामले में पटना की एक कोर्ट ने साल 2008 में बरी कर दिया था। बाद में साल 2012 में पटना हाईकोर्ट ने भी इस फैसले को सही ठहराया था। पीड़ित के भाई ने इसके बाद सुप्रीम कोर्ट में अपील की थी। कोर्ट ने 18 अगस्त को प्रभुनाथ सिंह को दोषी करार दिया था। वे फिलहाल विधायक अशोक सिंह हत्याकांड में झारखंड के हजारीबाग केंद्रीय जेल में उम्रकैद की सजा काट रहे हैं।

वोट न देने पर 2 लोगों की गोली मारकर हत्या की गई थी

साल 1995 में बिहार विधानसभा चुनाव के दौरान छपरा के मशरख में 18 साल के राजेंद्र राय और 47 साल के दरोगा राय की पोलिंग बूथ के पास ही गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। आरोप था कि दोनों ने ही प्रभुनाथ सिंह के कहे अनुसार वोट नहीं दिया था। यह वही चुनाव था जिसमें अशोक सिंह ने प्रभुनाथ सिंह को हराया था। इसके बाद प्रभुनाथ सिंह ने 90 दिनों के अंदर अशोक सिंह की हत्या करने की धमकी दी थी। 3 जुलाई, 1995 के दिन अशोक सिंह की हत्या हो गई। यह उनके विधायक बनने का 90वें दिन था।

1985 में विधायक बने, फिर चार बार सांसद रहे प्रभुनाथ सिंह

प्रभुनाथ सिंह 1985 में पहली बार मशरख से निर्दलीय चुनाव लड़कर विधायक बने थे। 1990 में वे लालू प्रसाद की पार्टी से विधायक बने। 1998, 1999, 2004 और 2013 में महाराजगंज से लोकसभा का चुनाव जीते। 1995 में विधायक अशोक सिंह की हत्या के बाद हुए उपचुनाव में अशोक के भाई तारकेश्वर सिंह जीते।

प्रभुनाथ सिंह पर एक चुनाव प्रचार में तत्कालीन DM कुंदन कुमार को धमकी देने का आरोप लगा था। उन्होंने DM के लिए कफन खरीदने की बात कही थी। इस मामले में पुलिस ने प्रभुनाथ सिंह पर दो केस दर्ज किए थे। प्रभुनाथ सिंह की सीवान के पूर्व सांसद मो. शहाबुद्दीन के साथ भी रंजिश रही है। दोनों के समर्थकों के बीच कई बार झड़पें भी हो चुकी हैं। इसे लेकर अक्सर इलाके में तनाव की स्थिति रहती थी।

नीतीश और सोनिया की आलोचना करते रहे हैं प्रभुनाथ

प्रभुनाथ सिंह ने अप्रैल 2009 में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी के विदेशी मूल का मुद्दा उछालते हुए कहा था कि उनका चेहरा, उनकी आवाज और उनकी भाषा मुझे नापसंद है। वे राजद अध्यक्ष लालू प्रसाद की तारीफ और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की आलोचना करते रहे हैं।

सजा के बाद प्रभुनाथ के बेटे ने कहा- कानूनी रास्ता देख रहे

प्रभुनाथ सिंह के बेटे राजद विधायक रणजीत सिंह ने भास्कर से बात करते हुए कहा कि अभी हम आगे रिव्यू प्रक्रिया पर सोच रहे हैं। दिल्ली में सुप्रीम कोर्ट के दूसरे सीनियर वकीलों से बात करने की कोशिश कर रहे हैं। कुछ बात होने पर जानकारी दे सकेंगे।

Back to top button