अवैध रूप कर रहे थे प्रसूता का लिंग परीक्षण, ओटी व अल्ट्रासाउंड सीज

 गोपाल त्रिपाठी
गोरखपुर। जनपद के बडहलगंज कस्बा में बुधवार को उपजिलाधिकारी गोला व स्वास्थ्य विभाग की टीम ने अभियान के तहत ओंकार हास्पिटल पर छापा मारा। जिसमें अवैध रूप से चल रहे अल्ट्रासाउंड सेंटर में प्रसूता का लिंग परीक्षण करते पाया गया। वहीं एक दर्जन प्रसूताओं का आपरेशन कर भर्ती किया गया था। नर्सिंग होम का रजिस्ट्रेशन अथवा चिकित्सक की डिग्री न मिलने पर प्रशासन ने आपरेशन थिएटर व अल्ट्रासाउंड सेंटर को सीज कर दिया। साथ ही संचालक व कथित चिकित्सक के खिलाफ कोतवाली में प्राथमिकी दर्ज करने का आदेश स्वास्थ्य विभाग को दिया गया।
उपजिलाधिकारी गोला अरूण सिंह के नेतृत्व में सीएचसी गोला के अधीक्षक डाॅ डीके सिंह व चिकित्साधिकारी डाॅ हर्ष पांडेय के साथ दोपहर एक बजे बडहलगंज के पटना चैराहा स्थित ओंकार हास्पिटल पर पहुंचे। छापेमारी के दौरान स्वयं को चिकित्सक बताने वाली अस्पताल संचालन की पत्नी एक प्रसूता का अल्ट्रासाउंड के दौरान गर्भ का लिंग परीक्षण कर रही थी। अस्पताल मेें दर्जनों प्रसूताएं भर्ती थीं।
जिनका आपरेशन किया गया था। यहां पर दो चिकित्सक मिले। जिनमें से एक अस्पताल संचालक वीरेंद्र साहनी की डिग्री आयुष की थी। जबकि दूसरे चिकित्सक डाॅ शैलेंद्र केवट ने इल्क्ट्रोहोम्योपैथी का डिग्रीधारक बताया। अल्ट्रासाउंड कर रहीं सीमा सिंह के पास किसी भी प्रकार की चिकित्सकीय डिग्री नहीं मिली। इसके बाद एसडीएम ने आपरेशन थियेटर व अल्ट्रासाउंड मशीन के साथ कक्ष को सीज कर दिया।
साथ ही तीमारदारों को अपने अपने मरीज अन्य अस्पताल में भर्ती कराने का निर्देश दिया। इस संबंध में एसडीएम अरूण सिंह ने बताया कि अस्पताल से संबंधित किसी भी प्रकार का रजिस्ट्रेशन अथवा चिकित्सक की डिग्री नहीं मिली है। यहां पर बिना सर्जन के ही अस्पताल संचालक द्वारा आपरेशन करना पाया गया। जिसके बाद सीएचसी के अधीक्षक डाॅ डीके सिंह को अस्पताल संचालक व कथित चिकित्सकों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने का आदेश दे दिया गया है। मरीजों के हटने के बाद अस्पताल को सीज कर दिया जाएगा।
बडहलगंज में अभी भी चल रहे दर्जनों अवैध नर्सिंग होम
उपनगर चिकित्सा का हब बन चुका है। यहां पर आए दिन नए नए अस्पताल खुल रहे हैं। रजिस्र्टड नर्सिंग होम की आड में लगभग एक दर्जन अवैध नर्सिंग होम संचालित हो रहे हैं। जहां पर दूर दराज के चिकित्सकों के नाम व उनकी डिग्रियों का सहारा लेकर फर्जी चिकित्सक व सर्जन मरीजों की सेहत से खिलवाड कर रहे हैं। समय समय पर ऐसे नर्सिंग होम पकडे भी गए मगर बाद में सब कुछ ठंडे बस्ते के हवाले हो गया। यदि अभियान के तहत ऐसे नर्सिंग होमों की जांच हो तो बडे पैमाने पर यहां फर्जी चिकित्सक व अस्पताल पकडे जाएंगे।
Back to top button
E-Paper