तड़प-तड़प के एक ही परिवार के तीन लोगों की दर्दनाक मौत, वजह कर देगी आपको हैरान

बलरामपुर । तुलसीपुर थाना क्षेत्र के जद्दापुर गांव में विषाक्त भोजन खाने से एक ही परिवार के तीन लोगों की मौत हो गई है। परिवार से तीन लोगों की मौत होने से पूरे गांव में हड़कंप मच गया है।
जानकारी के मुताबिक, सोमवार सुबह जद्दापुर निवासी विक्रम मौर्या की तीन वर्षीय पुत्री नेहा की अचानक तबीयत बिगड़ गई। पिता अपने सगे भाई के साथ मोटरसाइकिल से बेटी को इलाज के लिए तुलसीपुर ले जा रहा था कि रास्ते में ही बच्ची की मौत हो गई। इसी बीच विक्रम की भी तबियत बिगड़ गई।
मोटरसाइकिल चला रहे विक्रम के भाई मकानदार ने भाई की भी हालत खराब होते देख आनन-फानन में तुलसीपुर में उसे एक प्राइवेट अस्पताल में भर्ती कराया। सोमवार की दोपहर विक्रम के 12 वर्षीय पुत्र सूरज की भी तबियत खराब हो गई जिसे भी प्राइवेट अस्पताल में भर्ती कराया गया। सोमवार की देर शाम विक्रम की हालत बिगड़ने पर डॉक्टरों ने जिला अस्पताल रिफर कर दिया। जिला अस्पताल पहुंचने से पहले ही विक्रम की मौत हो गई। उधर, मंगलवार की सुबह पुत्र सूरज की हालत गम्भीर होने पर डॉक्टरों ने उसे भी जिला अस्पताल रिफर कर दिया। अस्पताल पहुंचने से पहले रास्ते में सूरज की भी मौत हो गई।
चौबीस घंटे में एक ही परिवार के तीन लोगों की मौत से समूचे गांव में हड़कंप मच गया। घर में सिर्फ आठ वर्षीय बिन्दा उर्फ निशा बची है। पति-पत्नी के पारिवारिक विवाद के चलते पत्नी ने तीन माह पूर्व पति को छोड़कर दूसरा विवाह कर लिया था। घर में रोने के लिए सिर्फ आठ वर्षीय मासूम बची है। भाई पहले ही बंटवारा कर अलग रह रहे हैं।
मासूम निशा ने बताया कि रविवार को पिता ने सुबह रोटी बनाई थी। रोटी चटनी सब लोगों ने मिलकर खाया था। सुबह रोटी बची थी। वही रोटी शाम को दूध के साथ उसके पिता, भाई व छोटी बहन ने खाया था। उसने शाम को दूध व चावल खाया था। मृतक के भाई मकानदार मौर्या ने दोपहर के बाद खाई गयी रोटी में विषाक्त होने का सन्देह जताया है।
Back to top button
E-Paper