घरेलू उड़ानों के लिए लखनऊ एयरपोर्ट तैयार, दो घंटे पहले पहुंचना होगा यात्रियों को

लखनऊ । राजधानी लखनऊ का अमौसी स्थित चौधरी चरण सिंह अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट 25 मई से घरेलू उड़ानों के लिए पूरी तरह से तैयार है। यात्रियों को कोरोना वायरस के संक्रमण से सुरक्षित यात्रा के लिए यहां पर दो घंटे पहले पहुंचना होगा। इसके लिए नागर विमानन महानिदेशालय (डीजीसीए) ने गाइडलाइन जारी कर दी है।

राजधानी लखनऊ के चौधरी चरण सिंह अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर करीब दो महीने बाद लॉकडाउन के चौथे चरण में 25 मई से फिर से घरेलू विमान उड़ान भरते दिखेंगे। फिलहाल लखनऊ एयरपोर्ट पर अभी आवश्यक सेवाओं से जुड़े विमानों के अलावा चॉपर, कार्गो और वंदे भारत मिशन के तहत विदेशों से भारतीयों को लेकर विमान आ रहे हैं। 25 मई से शुरू होने वाली घरेलू उड़ानों में अभी एक तिहाई विमानों का ही परिचालन होगा। इसके बाद धीरे-धीरे घरेलू उड़ानों की संख्या बढ़ायी जायेगी।

लखनऊ एयरपोर्ट पर सामान्य दिनों में करीब 55 घरेलू विमान दिल्ली, मुम्बई, गोवा, अहमदाबाद और गुवाहाटी सहित कई शहरों से आते थे। अब कोरोना वायरस से बचाव के मानकों का पालन करते हुए करीब 15 से 18 घरेलू विमान लखनऊ आयेंगे और इतने ही यहां से उड़ान भरेंगे। घरेलू उड़ान के लिए कुछ एयरलाइन कम्पनियों ने विमानों के परिचालन की घोषणा होने से पहले ही बुकिंग शुरू कर दी थी। इसके बाद कुछ कम्पनियों ने घोषणा होने के बाद बुकिंग शुरू की है।

नागर विमानन महानिदेशालय ने एयरलाइन कम्पनियों, एयरपोर्ट अथॉरिटी और सुरक्षा एजेंसियों के लिए सभी जरूरी गाइडलाइन जारी कर दी है। इसमें अस्वस्थ और गर्भवती महिलाओं एवं बुजुर्गों को सफर न करने की सलाह दी गई है। यात्रियों को विमान के प्रस्थान के दो घंटे पहले एयरपोर्ट पर पहुंचना होगा। विमान में यात्रियों को भोजन की सुविधा नहीं मिलेगी। यात्रियों को आरोग्य सेतु एप के साथ एक स्वघोषणा पत्र भी दिखाना होगा। यदि आरोग्य सेतु एप में यात्री का स्टेटस लाल होगा तो उसे यात्रा की अनुमति नहीं होगी। एयरपोर्ट के प्रवेश द्वार पर ही थर्मल स्क्रीनिंग की प्रक्रिया पूरी की जाएगी। पूर्व में कोरोना से पॉजिटिव आये यात्री विमान में सफर नहीं कर सकेंगे।

विमान कम्पनियां यात्रियों को तभी बोर्डिंग पास जारी करेंगी, जब उनकी ओर से स्वघोषणा पत्र मिल जायेगा। एक पीएनआर पर यदि एक से अधिक यात्री का टिकट बनेगा तो स्वघोषणा पत्र सभी यात्रियों के लिए मान्य होगा। यात्रियों को मास्क लगाना होगा और शारीरिक दूरी व सेनेटाइजर प्रोटोकॉल का पालन करना होगा। विमान में यात्रियों को पीने का पानी मिलेगा। लेकिन, वह अपने साथ खाने का कुछ भी सामान नहीं ले जा सकेंगे। यात्रा प्रारम्भ करने, एयरपोर्ट पर जाने, विमान के भीतर जाने और गंतव्य तक पहुंचने पर यात्रियों को कोरोना के फैलाव को रोकने के मानकों का पालन करना होगा।

इसके अलावा नागरिक उड्डयन मंत्रालय की ओर से कोरोना को लेकर जारी निर्देश के मुताबिक एयरलाइन कम्पनियां अब घरेलू उड़ानों का अधिकतम और न्यूनतम किराया तय कर सकेंगी। यात्रियों की आईडी, टिकट और बोर्डिंग पास की गेट पर लगे कैमरे से जांच की जायेगी। यात्रियों को अपने इन दस्तावेजों को कैमरों की तरफ दिखाना होगा।

लखनऊ एयरपोर्ट के विशेष कार्याधिकारी संजय नारायण ने शुक्रवार को बताया कि कोरोना के फैलाव को रोकने के लिए सुरक्षित मानकों के साथ राजधानी के चौधरी चरण सिंह अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट घरेलू उड़ानों के लिए 25 मई से पूरी तरह से तैयार है। यात्रियों को अधिकृत वाहन और टैक्सियों पर एयरपोर्ट पर दो घंटे पहले पहुंचना होगा। उन्होंने बताया कि लॉकडाउन के चौथे चरण में मुख्यालय से घरेलू उड़ानों के परिचालन का निर्देश मिल चुका है। 25 मई से करीब दो महीने बाद लखनऊ एयरपोर्ट से घरेलू विमान उड़ान भरते नजर आयेंगे।

गौरतलब है कि गत 24 मार्च की आधी रात से लॉकडाउन की वजह से केन्द्र सरकार ने सभी घरेलू उड़ानों को रद्द कर दिया था। इसके बाद से आवश्यक सेवाओं से जुड़े विमान और वंदे भारत मिशन के तहत विदेशों में फंसे भारतीयों को लेकर विमान लखनऊ एयरपोर्ट पर आयें हैं। गुरुवार रात को वंदे भारत मिशन के तहत एक उड़ान एआई 1329 अपने निर्धारित समय से देरी से करीब 10:40 बजे लखनऊ एयरपोर्ट पर उतरी है। इस विमान में मलेशिया के कुआलालम्पुर के 43 यात्री लखनऊ एयरपोर्ट पर उतरे थे। इसमें करीब 07 महिलाएं थी थीं।

Back to top button
E-Paper