गोरखपुर : पैसे के लिए मुकेश और गौतम ने की थी आदर्श की हत्या

गोरखपुर। सिकरीगंज थाना क्षेत्र के बारीगांव निवासी जयप्रकाश सिंह के पुत्र आदर्श की हत्या मुकेश और गौतम ने पैसे के लिए की थी। पुलिस ने दोनों हत्यारोपियों को गिरफ्तार कर आला कत्ल बरामद कर लिया है।
    चार अक्टूबर को सिकरीगंज निवासी जयप्रकाश सिंह का चैदह वर्षीय पुत्र आदर्श घर से गायब हो गया था। शक के आधार पर जयप्रकाश सिंह ने रिश्तेदारी में आए मुकेश और गौतम से पूछताछ की। उसी रात दोनों गांव से फरार हो गए। आठ अक्टूबर को आदर्श का शव गांव में ही धान के खेत से बरामद हुआ था।
मृतक के पिता की तहरीर पर पुलिस ने मुकेश पाण्डेय पुत्र दूधनाथ पाण्डेय निवासी बड़कागाव थाना मीरगंज जनपद गोपालगंज बिहार व गौतम पुत्र कृष्ण शंकर पाण्डेय ग्राम मझौरा थाना धनघटा जनपद सन्तकबीरनगर के खिलाफ अपहरण व हत्या का मुकदमा दर्ज किया था। शुक्रवार को घटना का अनावरण करते हुए वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक शलभ माथुर ने बताया कि पुलिस अधीक्षक दक्षिणी व पुलिस अधीक्षक अपराध  के  पर्यवेक्षण मे क्षेत्राधिकारी  खजनी  के नेतृत्व मे थानाध्यक्ष सिकरीगंज  मय टीम व स्वाट टीम के साथ घटना मे शामिल अभियुक्तगणो की गिरफ्तारी व बरामदगी हेतु लगाया गया था। दोनों हत्यारोपियों पर 15-15 हजार का इनाम भी घोषित था। एसओ सिकरीगंज दिनेश कुमार मिश्र, प्रभारी स्वाट टीम एवं प्रभारी सर्विलांस टीम के मदद से पिपरी तिराहे से मुखबीर खास की सूचना पर दोनों हत्यारोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया। पूछताछ के दौरान दोनों ने अपना जुर्म स्वीकार कर लिया।
अभियुक्त मुकेश पाण्डेय ने बताया कि सिकरीगंज के बारीगांव निवासी बुआ चांदमति देवी पत्नी स्व0 शिवशंकर पाण्डेय के घर पर आया था। गौतम पाण्डेय ने बताया कि चांदमति देवी उपरोक्त मेरी नानी है। दोनो उनके घर पर घटना के 10 दिन पूर्व से आये हुए थे। मृतक आदर्श सिह से हम दोनो की दोस्ती हो गयी थी। बातचीत के दौरान आदर्श बार बार उनसे कहता था कि मेरे पिता के पास बहुत पैसा है। मुकेश पाण्डेय को रूपये की आवश्यकता थी इस पर मुकेश पाण्डेय व गौतम ने मिलकर एक योजना बनायी कि आदर्श का अपहरण कर उसको मार दिया जाय तथा इसके शव को कही छिपा दिया जाय। उसी घटना का अमली जामा पहनाने हेतु चार अक्टूबर को मुकेश पाण्डेय व गौतम पाण्डेय आदर्श को उसके घर से बुलाकर गाव के बाहर पुलिया पर लेकर गये। वहा से थोड़ा अंधेरा हो जाने के उपरान्त बातचीत करते धान के खेत की तरफ लेकर गये जहा पर पहले से रखे हुए बास के डण्डे से मुकेश ने आदर्श के सिर पर पीछे से मारा।
जिससे आदर्श वही पर गिर गया। फिर मुकेश पाण्डेय व गौतम पाण्डये धान के खेत मे ले जाकर गले पर चाकू से मारकर देखे कि आदर्श की मृत्यु हो गयी है कि नही। आदर्श की मौत होने के बाद उसका शर्ट निकालकर जिस पर खून के दाग लगे हुए थे को लेकर गमछे मे लपेटकर लेकर आये जिसे मुकेश ने अपने बैग मे रख लिया था। दोनों ने शर्ट के आधार पर आदर्श के पिता जयप्रकाश सिह से रूपये मांगने की योजना बनाई मगर परिजन द्वारा तुरन्त पूछताछ करने से वे गांव छोड कर फरार हो गए। अभियुक्तगणो की गिरफ्तारी के उपरान्त उनके निशादेही पर पुलिस ने घटना मे प्रयुक्त डण्डा तथा मृतक का चप्पल बरामद किया गया है।
Back to top button
E-Paper