मासूम के साथ निर्भया जैसी हैवानियत : पहले काटे होट और कान, फिर दोनों प्राइवेट पार्ट को बुरी तरह किया जख्मी

गुजरात के सूरत जिले में एक मासूम के साथ निर्भया जैसी दरिंदगी किए जाने का मामला सामने आया है. जहां एक मुंहबोले मामा ने ही पांच साल की बच्ची के साथ रेप की वारदात को अंजाम दे डाला. साथ ही उसने बच्ची के साथ ऐसा बेरहमी दिखाई कि वो बच्ची जिंदगी और मौत के बीच झूल रही है.

दिल दहला देने वाली यह शर्मनाक वारदात सूरत के डिंडोली इलाके की है. जहां 5 वर्षीय मासूम बच्ची अपने परिवार के साथ रहती है. शनिवार को वह बच्ची लियानगर की बिल्डिंग के पास खेल रही थी. तभी उसका मुंहबोला मामा वहां पहुंचा और खिलौना दिलाने के बहाने उस मासूम को तालाब के पास एक सुनसान इलाके में ले जाकर उसके साथ बलात्कार किया.

वारदात के दौरान उसने बच्ची को कई जगह बुरी तरह से काट दिया. उसने उस पर बेइंतहा जुल्म किए. इसके बाद वो दरिंदा उस लहूलुहान बच्ची को अधमरी हालत में टाउनशिप के पास रखे गए पाइपों में फेंक कर वहां से चला गया. इस दौरान घरवाले बच्ची को तलाश रहे थे. जब बच्ची देर शाम तक नहीं मिली तो घरवालों ने पुलिस को सूचना दी.

देर रात पुलिस ने टाउनशिप से बच्ची को बरामद कर लिया. उसे फौरन अस्पताल में भर्ती कराया गया. जहां डॉक्टरों ने बताया कि मासूम के साथ हद दर्ज की हैवानियत की गई है.

जिसकी वजह से उसके दोनों प्राइवेट पार्ट बुरी तरह से जख्मी हो गए. उसे शरीर में कई जगह से खून निकल रहा था. उसके अंदरूनी हिस्से भी क्षतिग्रस्त थे.

लिहाजा डॉक्टरों ने बच्ची को एनआईसीयू में रखा है. उसकी कई सर्जरी हुई हैं. मल निकास के लिए दूसरा रास्ता बनाया. गुप्तांगों को अलग करने वाली जगह भी सर्जरी की गई. बच्ची के होंठ और कान भी कटे हुए थे. सिर में गंभीर चोट है. दर्जनभर डॉक्टरों की टीम ने उसकी सर्जरी की है. उसे 30 से ज्यादा टांके लगाए गए हैं.

डॉक्टरों के मुताबिक
एक माह बाद उस मासूम बच्ची का एक और बड़ा ऑपरेशन किया जाएगा. अभी उसकी हालत बेहद नाजुक बताई जा रही है. घटना से इलाके के लोगों में खासा गुस्सा था. इसी दौरान पता चला कि बच्ची को दोपहर के वक्त आरोपी के साथ देखा गया था.

यह जानकारी मिलते ही रात में आरोपी को स्थानीय लोगों ने दबोच लिया और जमकर उसकी पिटाई की. बाद में उसे पुलिस के हवाले कर दिया गया. पुलिस के मुताबिक आरोपी बिहार के नवादा जिले का रहने है. वह 2 दिन पहले ही डिंडोली में अपनी मां के पास रहने आया था.

Back to top button
E-Paper