हैवानियत का शिकार होने से बची IT कर्मी युवती, 7 युवकों के गैंग ने की सामूहिक बलात्कार करने की कोशिश

गुरुग्राम: राजधानी दिल्ली से सटे गुरुग्राम में एक युवती से गैंगरेप का प्रयास करने का मामला सामने आया है। बतौर आईटी एक्जीक्यूटिव काम करने वाली  21 वर्षीय युवती गुरुवार रात सेक्टर 86 स्थित अपने अपार्टमेंट में जाने के लिए सीढ़िया चढ़ रही थी कि तभी उसके साथ यह घटना घटी। टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक, सोसाइटी में रहने वाले लोगों का आरोप है कि शुरूआत में पुलिस ने इस मामले को रफा-दफा करने की कोशिश की।

हालांकि दवाब के बाद पुलिस ने सात में से पांच आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। आरोपियों के नाम सावन, अंकित उर्फ काली, मुकेश उर्फ मोंटी, अभिषेक और सचिन हैं जिन्हें न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है। बधहा गांव का रहने वाला हेमंत और उसका दोस्त कमल नंद अभी भी फरार हैं। पुलिस का कहना है कि कि ये सभी लोग एक पार्टी के लिए फ्लैट में पार्टी के लिए आए थे, जहां अंकित और सावन रहते हैं।

Madhya Pradesh crime

शिकायकर्ता महिला ने अपनी शिकायत में कहा, ‘मैं उन्हें अनदेखा कर भाग रही थी, लेकिन तभी मेरे हाथ से टिफिन बॉक्स गिर गया। जैसे ही मैंने उसे उठाने की कोशिश की तो उनमें से एक ने मेरा हाथ पकड़ने की कोशिश की। हालांकि मैं किसी तरह से भागने में कामयाब रही। जब मैं भाग रही थी तो वो सीटी बजाने लगे और मुझे देखकर जोर-जोर से हंस रहे थे। मेरी फैमिली बाहर निकली और उनसे पूछा आप ऐसा क्यों कर रहे हैं। इस गैंग ने उनपर हमला कर दिया। इसके बात अन्य पड़ोसी हमारे बचाव में आगे आए।’

इस मामले को लेकर पुलिस की भूमिका पर भी सवाल उठ रहे हैं। इसे लेकर स्थानीय निवासियों और पुलिसकर्मियों के बीच तीखी बहस भी हुई। पड़ोसियों ने रेप की कोशिश करने वाले आरोपियों की पिटाई भी की थी। उन्होंने पुलिस को बताया कि यदि वो मामले में दखल ना देते तो आरोपी अभी तक भाग चुके होते।

एक स्थानीय निवासी ने बताया, ‘काफी देर तक चली बहस के बाद पुलिस ने मामले में एफआईआर दर्ज की। इन सभी का एक ही मकसद था कि युवती के साथ गैंगरेप किया जाए। हमने काफी विरोध किया जिसके बाद ही पुलिस ने रेप के प्रयास के तहत मामला दर्ज किया।’ वहीं एक अन्य स्थानीय निवासी ने बताया कि हेमंत नाम के एक अन्य आरोपी को पुलिस प्रोटेक्शन मिली हई है क्योंकि पूर्व में उसे गैंगस्टर उमेश ने गोली मार दी थी।

कई लोगों का कहना है कि हेमंत अक्सर उस फ्लैट पर आया-जाया करता था जहां अंकित और सावन रहते हैं।  जिस युवती से गैंगरेप की कोशिश हुई वह टावर बी के दूसरे फ्लोर पर रहती है जबकि अंकित और सावन का फ्लैट फर्स्ट फ्लोर पर है। अंकित और सावन टैक्सी ड्राइवर हैं।

Back to top button
E-Paper