इन 5 कोरोना योद्धाओ में गजब का दिखा राष्ट्र प्रेम, हर कोई कर रहा नमन

अठ्ठाइस दिन बे-घर रहकर संदिग्ध लोगों के लेते रहे ब्लड सैम्पल !

हरिशंकर मित्तल चैरिटेबल ट्रस्ट ने इन कोरोना योद्धाओ को भेट किया अंगवस्त्र फूल माला पहना कर किया सम्मानित

क़ुतुब अन्सारी
बहराइच। जब राष्ट्र प्रेम का नशा किसी पर चढ़ जाता है तो वह बड़ी से बड़ी कुर्बानी देने से पीछे भी नही हटता ऐसा ही जिले के मेडिकल कालेज के पैथालॉजी विभाग के पाँच कोरोना योद्धाओ ने बीते अठ्ठाईस दिनों तक अपने घर परिवार का मोह त्याग कर संदिग्ध मरीजो के सैम्पल लेते रहे आज हर कोई उनके जज्बे को सलाम कर रहा है।जिला प्रशासन को चाहिए कि एसे कर्मयोगी लोगो का सम्मान दिलाने के लिए जिला प्रशासन सूबे के मुखिया से उन्हे जरूर सम्मानित करवाने मे इसकी पहल करे तो उनके हौसले जरूर बलन्द होंगे।

हालाकि समाजसेवी संस्था हरिशंकर मित्तल ट्रस्ट की तरफ से उन पाँच कोरोना योद्धाओ को सम्मानित किया गया है जो पिछ्ले 28 दिनो से अपने घर नही गये बल्कि चिकित्सा सेवा मे लगातार एक योद्धा के रूप मे काम कर रहे हैं।ट्रस्ट के सचिव संदीप मित्तल ने बताया कि जिला चिकित्सालय के पैथालॉजी विभाग मे कार्यरत वैभव मिश्रा,एस एन सिंह,भुवनेश अवस्थी,पवन रन्जन भास्कर,आशुतोष कुमार पिछ्ले 28 दिन से लगातार कोरोना संदिग्ध लोंगो के ब्लड सैम्पिल लेने का कार्य कर रहे ।

उनमे से कई रिपोर्ट पासिटीव भी आयी हैं।आज 28 दिन की लम्बी ड्यूटी के बाद आज ये कोरोना योद्धा अपने घर लौटे।इनके त्याग और साहस के लिये हरिशंकर मित्तल चैरिटबल ट्रस्ट की संरक्षिका शशी मित्तल एवं सचिव संदीप मित्तल ने इन्हे माल्यार्पण कर अंग वस्त्र एवं उपहार देकर हौशला बढाने का कार्य किया है।

ट्रस्ट के सचिव संदीप मित्तल ने कहा की इस आपदा काल मे संदिग्ध मरीजो का ब्लड सैम्पिल लेना,28 दिन अपने घर से अलग रहकर देश सेवा मे समर्पित रहना वाकई बहुत ही साहसिक बात हैं ये सब किसी योद्धा से कम नही हैं इनकी जितनी भी प्रसन्शा की जाये कम हैं। इस अवसर पर लेहंगा बैंक की संस्थापिका अन्शिका मित्तल ने सभी कोरोना योद्धाओ को मास्क देकर उनके सुरक्षित जीवन की कामना करी ।इस मौके पर ट्रस्ट के अध्यक्ष अमित मित्तल ने भी सभी योद्धाओ का हौशला बढाया है।अब जिले की अन्य सामाजिक व राजनैतिक लोगो के द्वारा भी उन्हे सम्मान यदि मिल जाए तो उन कोरोना के पंच प्यारो को उनके त्याग व साहस का प्यार जरूर मिल जावेगा।

Back to top button
E-Paper