यूपी : गोरखपुर में अब होम क्‍वारंटीन नहीं क्‍वारंटीन सेंटर में ही भेजे जाएंगे प्रवासी

गोरखपुर। जनपद में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए जिला प्रशासन ने बाहर से आने वालों की स्क्रीनिंग और क्वारंटीन करने को लेकर फैसला बदल दिया है। ट्रेनों, बसों से जिले में आ रहे प्रवासी कामगारों को लेकर एक बार फिर प्रशासन ने अपने फैसले में बदलाव किया है। अब जो भी लोग बाहर से गोरखपुर की सीमा में प्रवेश करेंगे उन्हें पहले क्वारंटीन सेंटर भेजा जाएगा। वहां पूल्ड सैंपल लिए जाएंगे। रिपोर्ट निगेटिव आई तो ही उन्हें घर भेजकर वहां होम क्वारंटीन किया जाएगा।
जिलाधिकारी के. विजयेंद्र पांडियन ने सभी एसडीएम, तहसीलदार और पुलिस के अफसरों को निर्देश जारी कर दिया है।

लॉक डाउन के बीच बाहर फंसे कामगारों की वापसी के समय ही यह फैसला हुआ था कि जो भी लोग बाहर से आएंगे उन्हें पहले 14 दिन क्वारंटीन किया जाएगा। मगर एक मई को शासन के निर्देश पर जितने भी लोग ट्रेन या बसों से अपने जिले में लौट रहे थे, उनकी रेलवे स्टेशन या बार्डर के पास बने कसरवल चेक पोस्ट पर ही थर्मल स्कैनिंग कर उन्हें होम क्वारंटीन के लिए भेज दिया जा रहा था। लेकिन बीते दो दिनों में मिले कोरोना पॉजिटिव मरीजों को देखते हुए प्रशासन ने निर्णय किया है कि एक ही जगह से आने वालों को पहले क्वारंटीन सेंटर में रखकर मेडिकल टीम से उनका पूल्ड सैंपल लेकर जांच के लिए भेजा जाए। रिपोर्ट निगेटिव आने पर ही उन सभी को होम क्वारंटीन के लिए घर भेजा जाए।

पॉजिटिव आने पर सभी को क्वारंटीन सेंटर में ही रखा जाए

बाहर से आने वाले लोगों को पहले क्वारंटीन सेंटर ले जाया जाएगा। यहां पूल्ड सैंपल लिए जाएंगे। जिनकी रिपोर्ट निगेटिव आएगी उन्हें होम क्वारंटीन किया जाएगा। जिनका पॉजिटिव निकलेगा उन्हें कोरोना वार्ड में भर्ती कराया जाएगा।
के. विजयेंद्र पाण्डियन, जिलाधिकारी

Back to top button
E-Paper