डोनबास-क्रीमिया के बीच शुरू जमीनी कॉरिडोर, मौत के हवाले रूसी सैनिक

यूक्रेन और रूस युद्ध को 100 दिन से भी ज्यादा हो गए हैं। बावजूद इसके सुलह की कोई उम्मीद दिखाई नहीं दे रही। इसी बीच रूस के रक्षा मंत्रालय ने कहा कि उसने क्रीमिया और पूर्वी यूक्रेन के कब्जे वाले डोनबास क्षेत्र को लैंड बॉर्डर से जोड़ दिया है।

यूक्रेन और क्रीमिया के बीच यातायात शुरू

रक्षा मंत्रालय ने कहा कि एक लैंड कॉरिडोर के जरिए दोनों क्षेत्रों को जोड़ दिया गया है। इसके जरिए लोगों और सामानों की आवाजाही शुरू हो गई है। रूस के रक्षा मंत्री सर्गेई शोइगु ने कहा- रूसी रेलवे और सेना एक साथ काम कर रही है। 1200 किलोमीटर की रेल पटरी शुरू हो गई है। इसके जरिए रूस, पूर्वी यूक्रेन और क्रीमिया के बीच यातायात को शुरू कर दिया गया है।

रूसी बमबारी में 3 लोगों की मौत

इधर, ओडेसा रीजनल मिलिट्री एडमिनिस्ट्रेशन के प्रवक्ता सेरही ब्रैचुक ने कहा कि जंग इतनी खतरनाक हो गई है कि हर 5 मिनट में 1 रूसी सैनिक की मौत हो रही है। खार्किव में हुई रूसी बमबारी में 3 लोगों की मौत हो गई। 6 लोग घायल हो गए।
यूक्रेन में रूसी तोपखाने को भारी नुकसान हुआ है।

जंग के चलते 30 लाख बच्चों की पढ़ाई छूटी- UN

रूस और यूक्रेन की जंग ने आम लोगों को बुरी तरह प्रभावित किया है। UN के मुताबिक, 30 लाख बच्चों की पढ़ाई छूट गई है। मारियुपोल के अजोवस्टल स्टील प्लांट में फंसे यूक्रेनी सैनिकों ने रूसी सेना के सामने सरेंडर कर दिया था। अब जानकारी मिली है कि इन सैनिकों को रूस भेजा जा रहा है। यूक्रेनी मीडिया के मुताबिक, करीब 1,000 सैनिकों को रूस भेजा गया है।

सेवेरोडोनेट्सक में जंग जारी

रूस के लिए सेवेरोडोनेट्सक शहर एक महत्वपूर्ण औद्योगिक केंद्र है। यहां कब्जा होने से डोनेट्स्क के मुख्य शहर क्रामाटोर्स्क का रास्ता खुल जाएगा। सेवेरोडनेत्स्क के कम से कम 70 प्रतिशत क्षेत्र में रूसी नियंत्रण होने की सूचना है। हालांकि, यूक्रेनी सेना ने इससे इनकार किया है। यूक्रेन का कहना है कि यहां जंग जारी है।

यूक्रेन तक गेहूं की सप्लाई शुरू

रक्षा मंत्री सर्गेई शोइगु ने कहा- पुतिन के आदेश पर हम गेहूं की सप्लाई करने के लिए तैयार हैं। उन्होंने कहा- राष्ट्रपति पुतिन का कहना है कि यूक्रेन बंदरगाहों पर जहाजों को पहुंचने के लिए माइन्स को हटा दिया जाए। हर जहाज को हमारी सेना चेक करेगी और जब तसल्ली कर लेगी कि उनके जरिए हथियार नहीं पहुंचाए जा रहे तो जहाजों को बंदरगाहों तक जाने दिया जाएगा।

Back to top button