एक गलत मैसेज ने 190 रुपये को बनाए 58 रुपये, करोड़ो का हुआ नुकसान

सोशल मीडिया अब न्यूज का एक अहम जरिया बन गया है। फिर चाहे बात व्हाट्सएप, फेसबुक, ट्विटर या किसी की भी हो। हालांकि इनकी क्रेडिबेलिटी को लेकर अभी भी कुछ कहा नहीं जा सकता। यह सोशल ऐप्स और साइट्स प्रोपेगेंडा का अहम जरिया हैं। ताजा मामला व्हाट्सएप का है जहां इसने शुक्रवार के सेशन में भारतीय शेयर मार्केट में भूचाल ला दिया। व्हाट्सएप के एक मैसेज से शेयर बाजार में लिस्टिड इंफीबीम कंपनी का शेयर 73% तक टूट गया। दरअसल व्हाट्सएप पर कंपनी में कॉरेपोरेट गर्वेंनेंस को लेकर एक मैसेज वायरल हो गया, जिससे कंपनी का शेयर में गिरावट आई।

इससे पहले सत्यम कंप्यूटर सर्विस मामले पर स्कैम मामला सामने आने के बाद 7 जनवरी 2009 को एक दिन में किसी कंपनी के शेयर में सबसे बड़ी गिरावट आई थी। उस दौरान सत्यम का शेयर एक दिन में 83% तक गिर गया था। इंफीबीम का शेयर शुक्रवार को 58.80 रुपये पर बंद हुआ, जबकि शुक्रवार सेशन में इसका हाई 190 रुपये के करीब था। इससे कुछ दिन पहले ऐसा ही मामला दीवान हाउसिंग फाइनेंस के साथ भी हुआ था।

फेक न्यूज और अफवाहों को लेकर सरकार सख्त, WhatsApp को भेजा जाएगा नोटिस

व्हाट्सएप मैसेज Equirus ब्रोकरेज के नाम से फैलना शुरू हुआ था, जिसके बाद अचानक से कंपनी का शेयर ताश के पत्तों की तरह ढह गया। शनिवार को कंपनी की एजीएम होनी थी जिससे पहले कंपनी के शेयर में बढ़ी गिरावट देखने को मिली। इसके बाद कंपनी ने स्टॉक एक्सचेंज को सफाई दी कि ऐसा कोई मामला नहीं है, लेकिन इसके बावजूद शेयर निचले स्तर पर ही बंद हुआ।

व्हाट्सएप मैसेज में इस बात का जिक्र था कि कंपनी ने अपनी यूनिट्स को 131 करोड़ रुपये का अनसिक्योर्ड लोन दे रखा है। हालांकि कंपनी ने इस बात का खंडन किया है। अब ऐसे में आगे का मामला जांच से ही सामने आ सकेगा, लेकिन फिलहाल इस वायरल मैसेज को किसी प्रोपेगेंडा से जोड़कर ही देखा जा रहा है। इससे पहले भी सोशल साइट्स और ऐप्स पर फेक न्यूज के जरिए मॉब लिंचिंग जैसी घटनाएं देखने को मिली थी।

Back to top button
E-Paper