कोरोना संकट के बीच 13% वर्कर्स को निकालेगी जोमैटो, अन्य कर्मचारियों का कटेगा वेतन !

कोरोना वायरस महामारी से बचने के लिए लागू किए गए लॉकडाउन के कारण चरमराई देश की अर्थव्यवस्था का असर दिखने लग गया है। कई निजी कंपनियों ने आर्थिक तंगी का हवाला देते हुए अपने कर्मचारियों की छंटनी करना शुरू कर दिया है। शुक्रवार को ऑनलाइन फूड एग्रीगेटर कंपनी जोमैटो (Zomato) का नाम भी इस सूची में शामिल हो गया है। कंपनी ने अपने 13% कर्मचारियों को नौकरी से निकालने तथा अन्य कर्मचारियों का 50% वेतन काटने का निर्णय किया है।

कर्मचारियों को ईमेल भेजकर दी जानकारी

कंपनी के संस्थापक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी (CEO) दीपिंदर गोयल ने शुक्रवार को सभी कर्मचारियों को ईमेल भेजकर अपने इस निर्णय की जानकारी दी। उन्होंने मेल में लिखा, ‘जब हम चाहते हैं कि जोमैटो काम पर ज़्यादा ध्यान दे, तो हम पाते हैं कि भविष्य में हमारे पास सभी कर्मचारियों के लिए पर्याप्त काम नहीं रहेगा। हमें अपने सभी सहयोगियों को एक चुनौतीपूर्ण काम का वातावरण देना है, लेकिन हम भविष्य में 13% कर्मचारियों के लिए ऐसा नहीं कर पाएंगे।’

कर्मचारियों के वेतन से की जाएगी 50% कटौती

CEO गोयल ने बताया कि आर्थिक तंगी को देखते हुए उन्होंने कंपनी के सभी कर्मचारियों के वेतन से 50% तक की कटौती करने का भी निर्णय किया है। हालत सुधरने तक यह कटौती जारी रहेगी। हालांकि, उन्होंने यह भी कहा कि स्थिति ठीक होने के बाद कटौती को बंद कर दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि कंपनी में जिन कर्मचारियों का वेतन बहुत कम है उनके वेतन से थोड़ी कम कटौती होगी, लेकिन उच्च वेतन वालों की 50% कटौती की जाएगी। 

छंटनी में शामिल कर्मचारियों को की जाएगी वीडियो कॉल

CEO गोयल ने बताया कि जिन कर्मचारियों को छंटनी में शामिल किया गया है उन्हें अगले 24 घंटे में एक वीडियो कॉल पर आमंत्रित किया जाएगा। इसके अलावा शेष कर्मचारियों को छह घंटे में कंपनी की ओर से एक कंफर्मेशन ईमेल किया जाएगा।

सराहना

CEO ने की स्वैच्छिक कटौती कराने वाले कर्मचारियों की सराहना

CEO गोयल ने अपने ईमले में संकट की इस घड़ी में कंपनी के सहयोग के लिए स्वैच्छिक कटौती कराने वाले कर्मचारियों की भी सराहना की। उन्होंने लिखा कि वह कंपनी के हित में अगले छह महीने तक स्वैच्छिक 100% वेतन कटौती कराने वाले कर्मचारियों को धन्यवाद देते हैं। अन्य किसी भी कंपनी में ऐसा सहयोग करने वाले कर्मचारी नहीं मिलेंगे। उनके इस प्रयास के बाद भी वह कर्मचारियों की वेतन कटौती करने के लिए मजबूर हैं।

मिलेगा वेतन

हटाए जाने वाले कर्मचारियों को छह माह तक मिलेगा 50% वेतन

CEO गोयल ने बताया कि को-फाउंडर, CEO गौरव गुप्ता और CEO फूड डिलिवरी बिजनेस मोहित गुप्ता छंटनी में शामिल कर्मचारियों के संपर्क में रहकर उन्हें दूसरी नौकरी दिलाने में मदद करेंगे। इन सभी कर्मचारियों को नौकरी मिलने या छह महीने तक 50% वेतन मिलता रहेगा। इसी प्रकार संविदा पर काम करने वाले कर्मचारियों के लिए संबंधित ऐजेंसियों को 2.5 माह का वेतन दिया जाएगा। इससे प्रभावित कर्मचारियों को राहत मिलेगी। 

लैपटॉप और फोन रख सकेंगे प्रभावित कर्मचारी

CEO गोयल ने बताया कि छंटनी में शामिल वो सभी कर्मचारी जिन्हें कंपनी की ओर से लैपटॉप या फोन दिए गए थे, वो उनसे वापस नहीं लिए जाएंगे। ऐसे कर्मचारी नौकरी छोड़ने के बाद उन्हें अपने पास रख सकेंगे। इससे उन्हें मदद मिलेगी। 

तीन मिनट की वीडियो कॉल में उबर ने 3,700 कर्मचारियों को निकाला

जोमैटो से पहले गुरुवार को ऑनलाइन टैक्सी सेवा प्रदाता कंपनी उबर ने अपनी 3,700 कर्मचारियों को नौकरी से निकाल दिया।  कंपनी की ओर से कर्मचारियों के साथ तीन मिनट से अधिक की वीडियो कॉल की थी। इसमें कंपनी के फीनिक्स सेंटर ऑफ एक्सीलेंस का नेतृत्व करने वाले रफिन शेवलॉ ने कहा कि व्यापार में अभी बहुत मंदी है और कंपनी के पास कई कर्मचारियों के लिए कोई काम नहीं है। वह 3,700 फ्रंटलाइन कर्मचारियों को निकाल रहे हैं।

Back to top button
E-Paper