आज ही अपनाएं ये तरीका, 7 साल में डबल होगा आपका पैसा

अगर आपको भी अपना पैसा डबल करना है तो आपनाये ये तरीका। जानिए कैसे बचाये पैसे को..  खर्च कम कीजिए और ज्यादा बचत कीजिए तो आपका बैंक बैलेंस बना रहेगा. रिटायरमेंट या अन्य वित्तीय लक्ष्यों के लिए आप इसकी शुरुआत जितनी जल्द करेंगे, लक्ष्य के करीब आने तक आप उतने ही धनवान होंगे. इसके लिए आसान सा नियम अपनाना होगा. रूल 72 का इस्तेमाल करके आप भी जान सकते हैं कि कैसे 7 साल में आपका पैसा दोगुना हो जाएगा.

मदद करेगा चक्रवृद्धि
आपको सिर्फ अपनी बचत की निरंतरता बनाए रखनी है और बाकी का काम चक्रवृद्धि समय के साथ करता रहेगा. चक्रवृद्धि का प्रभाव दीर्घावधि में देखते ही बनता है और यह लंबी अवधि में आपको धनवान बनाने में भरपूर मदद करता है.

मान लीजिए आप 100 रुपए कहीं जमा करते हैं और उस पर सालाना 10 प्रतिशत का ब्याज मिलता है. एक साल बाद आपके पास 110 रुपए होंगे. अगले वर्ष चक्रवृद्धि के कारण आपको 110 रुपए पर 10 प्रतिशत का ब्याज मिलेगा और आपके पैसे बढ़ कर 121 रुपए हो जाएंगे. फिर अगले वर्ष 121 रुपए पर 10 प्रतिशत ब्याज प्राप्त होगा और यह सिलसिला साल दर साल चलता रहेगा. समय के साथ आपके पैसों में आश्चर्यजनक बढ़ोतरी देखने को मिलेगी.

दोगुने कब होंगे पैसे?
आपकी बचत के पैसे दोगुने कब होंगे इसकी गणना का एक आम नियम काफी प्रचलित है. ये नियम रूल 72 है. फाइनेंस में इसका खूब इस्तेमाल होता है. रूल 72 के जरिए आप यह जान सकते हैं कि आपके निवेश के पैसे कितने समय में दोगुने हो जाएंगे. आइए इसका फॉर्मूला जानते हैं.

ऐसे समझें…
अगर आप 100 रुपए का निवेश करते हैं जिस पर सालाना 10 प्रतिशत का चक्रवृद्धि ब्याज मिलता है तो रूल 72 के अनुसार इस निवेश को दोगुना होने में 72/10=7.2 साल लगेंगे.
अगर आप इससे बड़ी राशि, मान लीजिए एक लाख रुपए का निवेश करते हैं तो लगभग सात साल में वह दो लाख रुपए हो जाएंगे. इसके लिए निवेश की निरंतरता और वर्तमान फंड में बढ़ोतरी करना न भूलें, यह आपको कहीं अधिक लाभ देगा.

निवेश की जल्द शुरुआत के लाभ
चक्रवृद्धि ब्याज शराब की तरह है. कहते हैं कि वाइन यानी शराब जितनी पुरानी होती है उतनी ही बेहतर होती है. इसी तरह, पैसों का निवेश भी अगर लंबी अवधि के लिए किया जाए तो इसके परिणाम काफी बेहतर होते हैं. इसलिए, अगर आप अपनी रिटायरमेंट के लिए करोड़ों रुपए की बचत करना चाहते हैं तो शुरुआत जितनी जल्दी हो सके, उतनी जल्दी कीजिए. अपने पहले वेतन से या फिर 25 साल की उम्र से आप इसकी शुरुआत करें तो ज्यादा अच्छा रहेगा.

> जब आप 60 साल की उम्र में रिटायर होंगे तो आपके पास पैसों की कमी नहीं होगी और आप शानदार जीवनशैली बरकरार रख सकते हैं.

> अगर आप 25 साल की उम्र से 5,000 रुपए का निवेश शुरू करते हैं और इस पर सालाना 10 प्रतिशत का रिटर्न मिलता है तो 60 साल की उम्र में आपके पास एक करोड़ रुपए से अधिक का फंड होगा.

> हालांकि, अगर आप इसकी शुरुआत 40 साल की उम्र में करते हैं तो इतने पैसों के निवेश से आप रिटायरमेंट के समय लगभग 33 लाख रुपए प्राप्त कर पाएंगे. यह फर्क काफी अधिक है. 40 साल के व्यक्ति को एक करोड़ रुपए के लिए कितनी बार 5,000-5,000 रुपए अतिरिक्त जमा करने होंगे.

निवेश की शुरुआत कब करें
टेबल 1 के जरिए इसे समझते हैं कि विभिन्न आयु में निवेश की शुरुआत के क्या नफा-नुकसान हैं. हम मान लेते हैं कि व्यक्ति प्रत्येक वर्ष 10,000 रुपए का निवेश करता है और उसे निवेश पर 10 प्रतिशत का ब्याज मिलता है. आप इस टेबल से समझ सकते हैं कि जल्द शुरुआत के क्या फायदे हैं.

जल्दी निवेश शुरू करने के लाभ

निवेश शुरुआत की उम्र रिटायरमेंट फंड
20 साल 49 लाख रुपए
25 साल 30 लाख रुपए
30 साल 18 लाख रुपए
35 साल 11 लाख रुपए
40 साल 6 लाख रुपए

नोटः 10,000 रुपए सालाना का निवेश 10 प्रतिशत की ब्याज दर के हिसाब से.

ऊपर दी गई टेबल से आपको स्पष्ट हो गया होगा कि पांच साल का फर्क भी निवेश से प्राप्त होने वाले पैसों में भारी फर्क पैदा करता है. हो सकता है कि आप अधिक उम्र में निवेश की शुरुआत करें और 49 लाख रुपए के रिटायरमेंट फंड के लक्ष्य को प्राप्त करें जो 20 साल वाले व्यक्ति ने आसानी से प्राप्त किया था.

कैसे हासिल करें लक्ष्य
आपको इसी लक्ष्य के लिए ज्यादा रकम का निवेश करना होगा ताकि आप बीते समय की भरपाई कर पाएं. इससे आपका बजट प्रभावित हो सकता है क्योंकि, इस लक्ष्य के लिए आपको ज्यादा पैसे आवंटित करने होंगे. इसे समझने के लिए, टेबल-2 में देखते हैं कि किस उम्र में व्यक्ति को कितने पैसों का निवेश करना होगा ताकि वह 49 लाख रुपए के लक्ष्य को पा सके.

49 लाख के लक्ष्य के लिए सालाना निवेश की राशि

निवेश शुरुआत की उम्र निवेशित फंड की उम्र में फर्क
20 साल 10,000 रुपए
25 साल 16,500 रुपए
30 साल 27,000 रुपए
35 साल 45,000 रुपए
40 साल 78,000 रुपए

जितना विलंब उतना निवेश राशि में इजाफा
आपने गौर किया होगा कि आप शुरुआत में जितना ज्यादा विलंब करते हैं, निवेश की राशि में आपको उतना ही इजाफा करना होता है. इसलिए, बेहतर यह होगा कि आप अपनी मासिक आय का 10 प्रतिशत शुरू से ही रिटायरमेंट के लिए अलग कर रखें. इसका एक और फायदा यह होगा कि आपकी आय बढ़ने के साथ ही रिटायरमेंट फंड के लिए अलग की जाने वाली राशि भी बढ़ेगी जिससे आपके धन में आशा से कहीं अधिक बढ़ोतरी होगी.

चक्रवृद्धि ब्याज का उठाएं फायदा
इसके लिए कुछ खास करने की जरूरत नहीं है. बस, चक्रवृद्धि ब्याज का फायदा उठाइए. निवेश की शुरुआत जल्द कीजिए, निरंतरता बनाए रखिए, धैर्य रखिए और फिर रिटायरमेंट के बाद का जीवन आर्थिक रूप से सुरक्षित कीजिए.

क्या करता है 72 का नियम
72 का नियम यह जानने में मदद करता है कि आपके पैसे कितने वर्ष में दोगुने हो जाएंगे.
10 लाना ब्याज देने वाला विकल्प आपके निवेश को 72/10=7.2 वर्षों में दोगुना कर देगा.
25 साल की उम्र से अगर आप सालाना 5,000 रुपए का निवेश शुरू कर देते हैं तो 60वें वर्ष में आपके पास होंगे एक करोड़ रुपए से अधिक की राशि
49 लाख रुपए 60वें वर्ष में पाने के लिए 25 साल का व्यक्ति अगर सालाना 10,000 रुपए का निवेश करता है तो 25 साल के व्यक्ति को इसी लक्ष्य की प्राप्ति के लिए 16,500 रुपए का सालाना निवेश करना होगा

कैसे उठाएं फायदा
चक्रवृद्धि का अधिक से अधिक लाभ उठाने के लिए जरूरी है कि आप अपने निवेश की शुरुआत जल्द करें. निवेश की निरंतरता बनाए रखें और जैसे-जैसे आपकी आय में बढ़ोतरी होती है, उस हिसाब से अपने निवेश की राशि में भी इजाफा करते चलें.

 

Back to top button
E-Paper