इनोवा गाड़ी से जा रहे खालिस्तानी आतंकियों को पुलिस ने धरदबोचा, कई उपकरण बरामद

हरियाणा से एक बड़ा मामाल सामने देखने को मिला है। जिसे सुनकर आपके रोंगटे खड़े हो जाएंगे। बताया जा रहा है कि करनाल जिले में गुरुवार की सुबह ही पुलिस ने 4 खालिस्तानी आतंकियों को नेशनल हाईवे से गिरफ्तार कर लिया हैं। पकड़े गए ये चारों आतंकी इनोवा गाड़ी में हाईवे से गुजर ही रहे थे कि इनपर पुलिस की नजर पड़ते ही ये हिरासत में ले लिये गए। जिसके बाद से इस मामले पर इंटेलिजेंस ब्यूरो (IB) ने इस बारे में सूचना दी थी। चारों गिरफ्तार आतंकी गुरप्रीत, अमनदीप, परविंदर और भूपेंदर पंजाब के रहने वाले हैं। इनमें तीन फिरोजपुर और एक लुधियाना का है। बताया जा रहा है कि चारों आतंकी संगठन बब्बर खालसा से जुड़े हैं। वहीं, आतंकियों से पूछताछ के लिए पंजाब पुलिस समेत अन्य सुरक्षा एजेंसियों की टीम भी पहुंची है।

पुलिस ने वीडियो टीम और SFL टीम को मौके पर बुलाया। आतंकियों से एक देसी पिस्तौल, 31 कारतूस, 1.30 लाख रुपए के करीब कैश, 3 लोहे के कंटेनर बरामद हुए हैं। टीम ने इनका एक्सरे करवाया है, इसमें एक्सप्लोसिव की पुष्टि हुई है।

असलहा सप्लाई में मिलती थी मोटी रकम

SP गंगाराम पुनिया ने बताया कि चारों आरोपियों पाकिस्तानी आतंकी हरविंदर सिंह रिंदा के इशारे पर काम कर रहे थे। रिंदा ने ही इन्हें असलहा सप्लाई किया था और उसे आदिलाबाद (तेलंगाना) में पहुंचाने का काम सौंपा था। इसके बदले चारों को मोटी रकम मिलनी थी। इससे पहले भी आरोपी नांदेड़ के पास ऐसी कन्साइनमेंट पहुंचा चुके हैं। रिंदा इन्हें ड्रोन से सप्लाई करता था और मोबाइल ऐप से लोकेशन सेंड करता था। उसके बाद यह विस्फोटक को बताई हुई लोकेशन तक पहुंचाते थे।

मोबाइल ऐप के जरिये गिरफ्तार युवकों की दी लोकेशन

आतंकी रिंदा ने एक मोबाइल ऐप के जरिये गिरफ्तार युवकों को लोकेशन दी थी। उसके अनुसार इन्हें फिरोजपुर बुलाया था। फिरोजपुर में भारत-पाक सीमा के पास गिरफ्तार आरोपी गुरप्रीत के दोस्त आकाशदीप के ननिहाल के खेत हैं। उन्हीं खेतों में ड्रोन से विस्फोटक की सप्लाई की गई थी। चारों को वहां से एक्सप्लोसिव उठाकर तेलंगाना पहुंचना था। उससे पहले पुलिस ने IB की सूचना पर उन्हें करनाल में दबोच लिया।

आरोपी गुरप्रीत जेल जा चुका है

SP गंगाराम पुनिया ने बताया कि गिरफ्तार आरोपी गुरप्रीत जेल जा चुका है। जेल में ही उसकी मुलाकात राजवीर नाम के शख्स से हुई। राजवीर की पाकिस्तानी आतंकी हरविंदर सिंह रिंदा से पुरानी पहचान है। राजवीर ने ही गुरप्रीत की बात रिंदा से करवाई। वह करीब 9 महीने से संपर्क में थे। इंटेलिजेंस ब्यूरो को मिली सूचना के बाद करनाल पुलिस और सुरक्षा एजेंसियों ने बसताड़ा टोल प्लाजा के पास नाका लगाया और इनोवा गाड़ी को चेकिंग के लिए रोका। पुलिस ने चारों को गिरफ्तार कर गाड़ी की तलाशी ली और असलहा-बारूद बरामद किया। पुलिस चारों को मधुबन थाना लेकर गई है, जहां पर उनसे पूछताछ की जा रही है।

आतंकवादियों से चल रही पूछताछ

चारों आरोपियों को मधुबन थाने में लाने के बाद मेन गेट बंद कर दिया गया। अंदर आतंकवादियों से पूछताछ चल रही है। थाना में अपने कामों से आने वालों पर रोक लगा दी गई। शिकायतकर्ताओं को भी वापस लौटाया गया। वहीं कुछ लोगों की शिकायतों पर जांच के लिए बुलाया था। उन्हें भी गेट से वापस भेज दिया है। साथ ही कहा गया कि जांच अधिकारी दोबारा से बुलाने के लिए फोन कर देंगे।

पुलिस ने चारों आतंकियों को मधुबन थाना पुलिस से सीआईए-1 करनाल में शिफ्ट कर दिया है। यहां पर पंजाब पुलिस भी चारों से पूछताछ के लिए पहुंच रही है। इसके अलावा अलग-अलग सुरक्षा एंएंजेसियों के प्रमुख भी चारों से पूछताछ के लिए करनाल में आ रहे हैं। पुलिस ने इनोवा को पुलिस थाना के सेंटर में खड़ा किया। गाड़ी के चारों तरफ दूर-दूर तक कोई भी वस्तु नहीं है। टीमें गाड़ी की गहनता से जांच कर रही हैं। बम दस्ता भी पूरी तरह से हरकत में है। जवानों द्वारा ईंटों से घेरा बनाया जा रहा है।

हरियाणा के गृहमंत्री अनिल विज ने बताया कि इनोवा गाड़ी में 4 आतंकी पंजाब की तरफ से आ रहे थे। हरियाणा पुलिस ने उन्हें पकड़ा है। उनके पास से काफी असलहा बरामद हुआ है। पाकिस्तान और अन्य पहलुओं से अभी जांच जारी है।

Back to top button