बर्दवान ब्लास्ट के ठीक बाद बंगाल आकर रह चुका है आतंकी संगठन जेएमबी का मुखिया सलाउद्दीन

कोलकाता, । भारत-बांग्लादेश समेत एशियाई प्रायद्वीप में तहलका मचाने वाले खूंखार आतंकी संगठन जमात-उल-मुजाहिदीन बांग्लादेश (जेएमबी) का मुखिया सलाहुद्दीन सलेहिन पश्चिम बंगाल में भी रह चुका है। खास बात यह है कि 2 अक्टूबर, 2014 को हुए बर्दवान ब्लास्ट के ठीक बाद वह पश्चिम बंगाल में आया था। इस बात का खुलासा भारत में रह रहे इस आतंकी संगठन के टॉप कमांडर अब्दुल करीम की गिरफ्तारी कोलकाता पुलिस की स्पेशल टास्क फोर्स (एसटीएफ) के हाथों होने के बाद पूछताछ में हुआ है।

करीम को गुरुवार को ही मुर्शिदाबाद जिले के जंगीपुर थाना क्षेत्र से पकड़ा गया है। मूल रूप से कोलकाता के शमशेरगंज थाना क्षेत्र के रहने वाले अब्दुल करीम को गुरुवार गिरफ्तारी के बाद रात भर पूछताछ हुई है। उसने इस इस बात का खुलासा किया है कि सलाहुद्दीन पश्चिम बंगाल आया था और उसके रहने खाने तथा अन्य व्यवस्थाएं करीम ने ही की थी। एसटीएफ की उपायुक्त अपराजिता रॉय ने शुक्रवार को इस बारे में पुष्टि की।

उन्होंने बताया कि 2015 में सैयद सलाहुद्दीन पश्चिम बंगाल आया था। अब्दुल करीम ने उसके रहने और खाने-पीने की व्यवस्था की थी। उसके छिपने तथा भारत से वापस बांग्लादेश जाने की पुख्ता व्यवस्था भी करीबी ने ही की थी।

दरअसल, सलाहुद्दीन सलेहिन पूरी दुनिया के टॉप मोस्ट वांटेड आतंकियों में से एक है। जेएमबी को एशिया के अलावा दुनिया के अन्य देशों में फैलाने में उसकी बड़ी भूमिका रही है। उसने आईएसआई तथा लश्कर-ए-तैयबा जैसे अन्य आतंकी संगठनों से भी अपने संबंध मजबूत किए थे। कुल मिलाकर कहा जाए तो जेएमबी को पूरी दुनिया में फैलाने में सलाउद्दीन की भूमिका बड़ी रही है। ऐसे में पश्चिम बंगाल आकर उसके रहने और फिर यहां से सुरक्षित वापस लौट जाने का मामला काफी संगीन है।

गिरफ्तार आतंकी अब्दुल करीम से गहन पूछताछ कर यह पता लगाने की कोशिश की जा रही है कि 2015 में जब सलाउद्दीन बंगाल आया था तो उसकी क्या योजना थी? उसने कितनी साजिश रची है? कितने लोगों को आतंकी संगठन से जोड़ा गया है और कहां-कहां ट्रेनिंग आदि दी जाती है? खास बात यह है कि 2 अक्टूबर, 2014 को पश्चिम बंगाल के बर्दवान में व्यापक ब्लास्ट हुआ था। यह ब्लास्ट जेएमबी के आतंकियों की गलती से ही हुआ था। उसके तुरंत बाद सलाहुद्दीन जैसे टॉप कमांडर के बंगाल में आने और सुरक्षित लौट जाने को लेकर भी सुरक्षा एजेंसियों पर सवाल खड़ा हो रहे हैं।

शुक्रवार दोपहर करीम को कोर्ट में पेश करने के बाद रिमांड पर लेकर एसटीएफ की टीम इस आतंकी संगठन के नेटवर्क के बारे में पता लगाने में जुट गई है।

Back to top button
E-Paper