दागी दरोगा व भू-माफिया के बीच गठजोड का मांमला तूल पकडा, आईजी से शिकायत

शहजाद अंसारी
बिजनौर। नगीना पुलिस की शह पर गाज़ियाबाद के भू-माफिया द्वारा करोड़ो रूपये की सम्पत्ति पर फ़र्ज़ी बैनामा के आधार पर कब्जे के प्रयास का मामला आईजी मुरादाबाद तक जा पहुंच गया है। चर्चित दरोगा जितेंद्र ने एसपी बिजनौर को बदनाम कराते हुए भूमाफिया की मदद कर उल्टा पीड़ितों पर ही फ़र्ज़ी मुकदमा कायम कर जेल भेज दिया था। आईजी ने इस मामले को गम्भीरता से लेते हुए पूरी घटना की निष्पक्ष जांच मुरादाबाद पुलिस को सौंप दी है।
जनपद की थाना नगीना पुलिस भू-माफिया के साथ गठजोड़ कर विवादित सम्पत्तियों पर कब्ज़ा कराने के कारोबार में लगी है। हल्का दरोगा जितेंद्र कुमार आदेश के हवाला देकर एसपी को बदनाम कर मोटा फीलगुड करने में लगा है। यह मामला थाना नगीना के मोहल्ला पहाड़ी दरवाज़ा का है भूमाफिया से हमसाज नगीना पुलिस से इंसाफ न मिलने पर पीड़ित महिला सितारा ने आईजी मुरादाबाद के समक्ष पेश होकर इंसाफ की गुहार लगाते हुए कहा कि उसके शौहर के पांच भाई है जो कि मेहनत मजदूरी करके अपना व परिवार का पालन पोषण करते है। राशिद उर्फ बाबू, ताहिर, जाहिद, मौ0 शाहिद, मौ0 आसिफ पुत्रगण अ0 वहाब निवासी मोहल्ला पहाडी दरवाजा कस्बा व थाना नगीना जिला बिजनौर। पांचो भाईयों कि जायदाद जिसमें 03 मकान कच्चे, 02 मकान पक्के, 03 दुकाने व झोपडी मौजूद है। बैनामाशुदा आराजी पर प्रार्थनी व उसका परिवार लगभग साठ वर्षा से काबिज है तथा बिजली का बिल व हाउस टैक्स भी प्रार्थनी के पति व अन्य परिवार के नाम पर है।

मल्जिम नसीम पुत्र शरीफ निवासी मौहल्ला काजी सराय व शकिल पुत्र सईद मौहल्ला लुहारी सराय थाना नगीना जनपद बिजनौर ने बिना किसी कानून व अधिकार के उपरोक्त सम्पत्ति का बैनामा आकाश ठाकुर पुत्र भूषण सिंह निवासी जनपद गाजियाबाद को बीती 26 अप्रैल 19 को कर दिया। फर्जी बैनामे के आधार पर गुण्डागर्दी के बल पर आकाश ठाकुर ने थाना नगीना में तैनात हल्के के दरोगा जितेन्द्र कुमार से हमसाज होकर पहले तो 01 मई 19 की एक फर्जी घटना बनाकर प्रार्थनी व उसे पति तथा देवर के खिलाफ एक झूठा मुकदमा जिसकी अपराध संखया 0177/19 धारा 323, 380, 452, 457, 504, 506 दर्ज कराते हुए पहले तो उसके पति व देवर को बिना किसी जांच व पडताल के जेल भिजवाया बाद में 24 मई 19 को आकाश ठाकुर अज्ञात बदमाशों के साथ हथियारों के बल पर प्रार्थनी की आराजी पर कब्जा करने पहुंच गए।

आस पास के लोगों के विरोध करने पर यह लोग वहां से धमकी देते हुए भाग गए। नगीना पुलिस प्रार्थनी व उसके परिवार की मदद करने की बजाय उल्टा भू-माफियो का पक्ष लेते हुए आराजी खाली करने का दबाव बना रही है। पीड़िता की शिकायत को आईजी रमित शर्मा ने गम्भीरता से लेते हुए पूरे मामले की जांच मुरादाबाद पुलिस को सौंप दी है। मुरादाबाद पुलिस द्वारा इस मांमले की जांच किए जाने से रस्सी का सांप व सांप की रस्सी बनाने वाले दागी दरोगा जितेन्द्र कुमार पर अब गाज गिरना तय माना जा रहा है।

Back to top button
E-Paper