OMG : 7 साल में 7 बार प्रेग्नंत हुई ये स्कूल टीचर, जब लोगो को पता चली सच्चाई तो..

कुछ बाते अक्सर सोचने पर मजबूर कर देती है. क्या ऐसा भी हो सता है आज की दुनिया में अभीकुछ खबरें ऐसी होती हैं, जिन पर भरोसा करना नामुमकिन सा  होता है. मगर जब सामने आती है तो होश तक उड़ जाते है. ऐसा ही कुछ आज हम आपको बताने जा रहे जिसे जानकर आपके रौंगटे खड़े हो जायेंगे.

Loading...

अक्सर आपने यह सुना होगा और इस बात को अच्छे से जानते भी होंगे कि 2 बच्चों के जन्म के बीच 3 साल का अंतर रखना बेहद जरूरी है लेकिन आज हम आपको एक ऐसी स्कूल टीचर के बारे में बताने जा रहे हैं जो 7 साल में 7 बार प्रेग्नेंट हो चुकी है।

यह मामला बिहार के एक शिक्षिका का है जो कि 7 साल में 7 बार गर्भवती हो चुकी है लेकिन यह शिक्षिका सच में गर्भवती नहीं हुई यह सिर्फ गर्भवती होने का नाटक कर रही थी। वो सिर्फ इसलिए ताकि मेटरनिटी पेड लीव्स (गर्भावस्था के दौरान छुट्टियों का पैसा मिलना) का पूरा भुगतान इस महिला को मिल सके।

गवर्नमेंट ने सभी सरकारी नौकरी में काम करने वाली महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान छुट्टियां लेने पर भी पूरी सैलरी उपलब्ध करवाने का नियम बना रखा है। इसलिए ये टीचर काफी लम्बे समय के लिए घर बैठकर पगार उठा रही थी।

स्कूल वाले प्रशासन को भी बाद में यह पता चला कि ये शिक्षिका बेवकूफ बना रही थी लेकिन अब जाकर प्रशासन को इसका पता चला तो उसके खिलाफ स्कूल प्रशासन ने कार्रवाई कर दी है।

Loading...
loading...
div#fvfeedbackbutton35999{ position:fixed; top:50%; right:0%; } div#fvfeedbackbutton35999 a{ text-decoration: none; } div#fvfeedbackbutton35999 span { background-color:#fc9f00; display:block; padding:8px; font-weight: bold; color:#fff; font-size: 18px !important; font-family: Arial, sans-serif !important; height:100%; float:right; margin-right:42px; transform-origin: right top 0; transform: rotate(270deg); -webkit-transform: rotate(270deg); -webkit-transform-origin: right top; -moz-transform: rotate(270deg); -moz-transform-origin: right top; -o-transform: rotate(270deg); -o-transform-origin: right top; -ms-transform: rotate(270deg); -ms-transform-origin: right top; filter: progid:DXImageTransform.Microsoft.BasicImage(rotation=4); } div#fvfeedbackbutton35999 span:hover { background-color:#ad0500; }
E-Paper
Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker