जम्मू-कश्मीर में एनकाउंटर्स : 3 आतंकी हुए ढेर, बच्चों के टिफिन बॉक्स में मिला बारूद

जम्मू-कश्मीर में सोमवार रात से चल रहे दो एनकाउंटर्स में 3 आतंकी ढेर हुए। सोपोर जिले के जालूरा इलाके में रात 10 बजे लश्कर-ए-तैयबा का एक और कुपवाड़ा में सुबह दो आतंकी मारे गए। तीन में से दो आतंकी पाकिस्तानी थे, जबकि एक लोकल। दूसरी ओर BSF ने सोमवार रात ही कनाचक के दयारान में नजर आए एक ड्रोन पर गोलियां चलाईं।

रात करीब 11 बजे हुई फायरिंग के बाद ड्रोन से जुड़े पेलोड को नीचे लाया गया। पेलोड में बच्चों के टिफिन बॉक्स के अंदर 3 मैग्नेट IED थे। जिनमें टाइमर सेट था।

सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच हुए एनकाउंटर

उधर कुपवाड़ा में सुबह 6 बजे सुरक्षाबलों और आतंकियों के बीच हुए एनकाउंटर में दो आतंकी मारे गए। कश्मीर के IGP विजय कुमार ने बताया कि मारे गए पाकिस्तानी आतंकी का कोड नाम तुफैल है। दूसरे आतंकी का नाम इश्तियाक लोन है, जिसने हाल ही में आतंकी रास्ता पकड़ा। पाकिस्तानी आतंकी लाहौर का रहने वाला था। यह जानकारी आतंकियों के पास जब्त दस्तावेजों से मिली है। मौके से दो AK-56 रायफल जब्त की गई हैं। सोपोर में मारे गए आतंकी का नाम हंजला है, उसके दो साथ भाग गए, लेकिन अपने बैग वहीं छोड़ गए, जिनमें मिले दस्तावेजों की जांच की जा रही है। पुलिस ने हंजला के पास से एक AK-47 और 5 मैगजीन भी जब्त कीं।

टारगेट किलिंग में आतंकियों का सफाया जारी

IGP कश्मीर विजय कुमार ने बताया कि टारगेट किलिंग में शामिल आतंकियों की पहचान और खात्मे का सिलसिला जारी है। राहुल भट की हत्या में 2 आतंकवादी शामिल थे। जिसमें से एक मारा गया और एक बचा है। उसकी तलाश जारी है। अमरीन भट की हत्या में शामिल 2 आतंकवादियों को मारा जा चुका है। बैंक मैनेजर विजय कुमार हत्याकांड के आतंकियों की पहचान कर ली गई है। उन्हें जल्द ही या तो गिरफ्तार किया जाएगा, या खात्मा कर दिया जाएगा।

26 दिन में टारगेट किलिंग की 10 घटनाएं जारी

घाटी में इन दिनों दहशतगर्दों के निशाने पर प्रवासी मजदूर और कश्मीरी हिंदू हैं। 26 दिन में टारगेट किलिंग की 10 घटनाएं सामने आने के बाद घाटी से पलायन की खबरें भी आई थीं। लगातार हो रही टारगेट किलिंग की घटनाओं से कश्मीरी हिंदुओं में इस बात का डर है कि पता नहीं, कौन, कब, कहां से गोली मार दे।

कश्मीर में कई आतंकवाद विरोधी अभियान चलाए गए हैं

जम्मू-कश्मीर के अनंतनाग जिले के रिशीपोरा इलाके में यह मुठभेड़ हिजबुल मुजाहिदीन के आतंकवादी कमांडर निसार खांडे के मारे जाने के दो दिन बाद हुई है। कश्मीर में पिछले कुछ महीनों में कई आतंकवाद विरोधी अभियान चलाए गए हैं, जिनमें कई आतंकवादी और उनके कमांडरों का सफाया किया गया है। अधिकांश ऑपरेशन पुलिस और सेना के माध्यम से संयुक्त रूप से विशिष्ट खुफिया सूचनाओं के आधार पर किए गए हैं।

Back to top button