बोला चीन- भारत से बातचीत कर हम आपसी मुद्दों को सुलझा लेंगे, बीच में न पड़े US

चीन ने अमेरिका के टॉप मिलिट्री जनरल के लद्दाख को लेकर किए गए दावे पर तीखी प्रतिक्रिया दी है। चीनी विदेश मंत्रालय ने कहा- भारत और चीन बातचीत के जरिए सीमा मुद्दे को सुलझा सकते हैं। चीन ने अमेरिका पर आग में घी डालने और अमन को खतरे में डालने के आरोप भी लगाए। बीजिंग ने दावा किया कि भारत-चीन सीमा पर सैन्य गतिरोध स्थिर हो रहा है।

अमेरिकी जनरल ने दिये ये बयान

भारत के दौरे पर आए अमेरिकी सेना के प्रशांत क्षेत्र के कमांडिंग जनरल चार्ल्स ए. फ्लिन ने लद्दाख में चीन की हरकतों को खतरे की घंटी बताया था। उन्होंने कहा था- चीन का यह रवैया पड़ोसी देशों के साथ संबंधों को नुकसान पहुंचाने वाला है। अमेरिकी जनरल हिमालय क्षेत्र में चीन की तरफ से बड़े पैमाने पर किए जा रहे कंस्ट्रक्शन की चर्चा कर रहे थे।

बातचीत से हल करेंगे सीमा विवाद- चीन

चीनी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता झाओ लिजियन ने कहा- सीमा विवाद चीन और भारत के बीच है। दोनों पक्ष बातचीत से मुद्दे को हल कर सकते हैं। कुछ अमेरिकी अधिकारी आग में घी डालने और उंगलियां उठाने की कोशिश कर रहे हैं। यह शर्मनाक है। हम उम्मीद करते हैं कि वे आगे से ऐसा नहीं करेंगे। शांति और स्थिरता में बनाए रखने की कोशिश करेंगे।

सीमा पर हालात स्थिर-चीन

झाओ लिजियन ने कहा- पूर्वी लद्दाख में पिछले दो साल से दोनों देशों के बीच जो सैन्य गतिरोध था, वो अब स्थिर हो रहा है। उन्होंने यह भी दावा किया कि दोनों देशों की सेनाएं पीछे हट रही हैं। हालांकि सीमा पर कई ऐसे प्वाइंट अब भी मौजूद हैं, जहां सेनाएं आमने-सामने हैं।

भारत-चीन के बीच गतिरोध

मई 2020 में पूर्वी लद्दाख के पैंगोंग त्सो क्षेत्र में दोनों देश की सेनाओं के बीच हिंसक झड़प हुई थी। वहीं, पिछले महीने यह सामने आया कि चीन पूर्वी लद्दाख में पैंगोंग झील के आसपास पुल बना रहा है। वह ऐसा कदम इसलिए उठा रहा है ताकि सेना को इस क्षेत्र में अपने सैनिकों को जल्दी से जुटाने में मदद मिल सके।

Back to top button