दिल्ली-गुरुग्राम बॉर्डर खुला, नोएडा बॉर्डर बंद होने से लोग परेशान

-चेकिंग के बाद ही वाहनों को मिल रही एंट्री

नई दिल्ली । कोरोना वायरस संकट के कारण देश में लॉकडाउन अब भी लागू है। एक जून से इस लॉकडाउन का नया चरण शुरू हो गया है, जिसमें कई तरह की छूट दी गई है। केंद्रीय गृह मंत्रालय की गाइडलाइन्स के अनुसार, अब निजी वाहन से देश के किसी भी हिस्से में जा सकते हैं। इसके लिए राज्य सरकार द्वारा बस बॉर्डर खुले होने की इजाजत होनी चाहिए। हालांकि, राजधानी दिल्ली और उससे सटे नोएडा, गाजियाबाद जैसे शहरों में रहने वाले लोगों को अब भी कुछ हद तक परेशानी झेलनी पड़ सकती है।

दिल्ली सरकार की ओर से लॉकडाउन-4 के वक्त ही बॉर्डर को खोल दिया गया था और एंट्री-एग्जिट के लिए किसी पास की जरूरत नहीं थी। हालांकि नोएडा और गाजियाबाद ने अपने बॉर्डर नहीं खोले हैं और तर्क दिया गया है कि पिछले कुछ दिनों में जो कोरोना के केस सामने आए हैं उनमें अधिकतर दिल्ली से संबंधित हैं। सोमवार सुबह भी नोएडा बॉर्डर पर जाम जैसी स्थिति दिखी और यहां चेकिंग के बाद ही लोगों को एंट्री दी जा रही है।

वहीं हरियाणा सरकार ने भी अंतरराज्यीय और अंतर-जनपदीय वाहनों को अनुमति दे दी है। इस फैसले का सबसे बड़ा असर दिल्ली-गुरुग्राम बॉर्डर पर नजर आया, जहां हर दिन बड़ी संख्या में वाहनों की आवाजाही होती है। सोमवार सुबह दिल्ली-गुरुग्राम बॉर्डर पर वाहनों को आवाजाही की अनुमति दी गई।

Back to top button
E-Paper