दो माह में सरकारी अस्पतालों में हुए दो हजार प्रसव

1600 से अधिक को मिल चुका है जननी सुरक्षा योजना का लाभ

पिछले वित्त वर्ष में सरकारी अस्पतालों में हुए 16 हजार से अधिक प्रसव

सभी को मिल चुका है जननी सुरक्षा योजना का लाभ

ग्रामीण क्षेत्र में 1400 और शहरी क्षेत्र में मिलते हैं एक हजार रूपए

 

गाजियाबाद, ।  इस वित्त वर्ष के पहले दो माह में जनपद के सरकारी अस्पतालों में दो हजार प्रसव हुए हैं। इनमें से 1600 से अधिक महिलाएं जननी सुरक्षा योजना का लाभ भी ले चुकी हैं। सीएमओ डा. एनके गुप्ता ने बताया कि चालू वित्त वर्ष के अप्रैल और मई माह के दौरान जिले के ग्रामीण क्षेत्र में छह सौ से अधिक प्रसव सरकारी अस्पतालों में हुए हैं जबकि शहरी क्षेत्र में 1300 से अधिक प्रसव हुए हैं।

इनमें से 1600 से अधिक महिलाओं के खाते में जननी सुरक्षा योजना का लाभ भी पहुंच गया। उन्होंने बताया कि जननी सुरक्षा योजना के तहत सरकारी अस्पताल में प्रसव कराने पर शहरी क्षेत्र में एक हजार और ग्रामीण क्षेत्र में 1400 रूपए का भुगतान महिला के खाते में किया जाता है।

सीएमओ ने बताया कि संस्थागत प्रसव को बढावा देने के लिए सरकार ने यह योजना चलाई हुई है ताकि प्रसव के दौरान होने वाली मृत्यु दर को कम किया जा सके और जच्चा-बच्चा, दोनों दोनों सुरक्षित रहें। उन्होंने बताया कि पिछले वित्तीय वर्ष (2018-19) में जनपद के सभी सरकारी अस्पतालों में 16 हजार से अधिक प्रसव हुए। इनमें 11 हजार से अधिक प्रसव शहरी क्षेत्र में और पांच हजार से अधिक प्रसव ग्रामीण क्षेत्र में हुए। इनमें से 14 हजार से अधिक महिला मार्च, 2019 तक ही जननी सुरक्षा योजना का लाभ प्राप्त कर चुकी थीं।

पिछले दो माह में बाकी महिलाओं को जननी सुरक्षा योजना का लाभ दिया जा चुका है। सीएमओ ने अपील की है कि लोग सरकारी अस्पतालों में उपलब्ध सुविधाओं का लाभ उठाएं। सरकारी अस्पतालों में प्रसव को बढावा देने के लिए सरकारी की ओर से चलाई जा रही जननी सुरक्षा योजना का लाभ उठाएं। योजना के तहत मिलने वाले पैसे को जननी के बेहतर खान-पान पर खर्च करें।

Back to top button
E-Paper