बेखौफ होकर मेडिकल स्टोरों पर हो रहा नशीली दवाईयां का कारोबार

नशीली दवाओं की गिरफ्त में  मौत से जूझ रही है युवा पीढ़ी
ड्रग इंस्पेक्टर की मिलीभगत से फल फूल रहा है मौत का ये कारोबार
क़ुतुब अंसारी / अशोक सोनी
जरवल ( बहराइच ) कस्बे में दो दर्जन से अधिक मेडिकल  स्टोरों पर नियमों को ताख पर रखकर लाखों रुपए की नशीली दवाओं का कारोबार किया जा रहा है।नवयुवक इन नशीली दवाओं के चक्कर में फंसकर अपना सबकुछ गवां रहे  है,लेकिन स्वास्थ्य महकमा वेखबर है।ड्रग इंस्पेक्टर की मिलीभगत से खुलेआम लाखों रुपयों का नशीली दवाओं का काला कारोबार किया जा रहा है।
 जरवलरोड थाना क्षेत्र के जरवल नगर पंचायत स्थित दो दर्जन से अधिक मेडिकल स्टोरों पर अधिक मुनाफा कमाने की लालच में नियमों को ताख पर रखकर केवल रजिस्टर्ड मेडिकल प्रैक्टिशनर के पर्चे बिकने वाली
 कोडीन फास्फेट, अल्प्राजोलम,एबिल,क्लोनाजीपाम,डायजापाम,फोर्टविन सहित अन्य नशे की दवाईयां कस्बे के नवयुवकों को बिना किसी डाक्टर के पर्चे के दे दिया जाता है। नगर पंचायत के नवयुवक पूरे दिन कस्बे में मेडिकल स्टोरों पर नशीली दवाएं खरीदते हुए देखे जा सकते हैं।नशे की लत से कस्बे के नवयुवक जहां अपना सबकुछ गंवा चुके हैं, वही मेडिकल स्टोर संचालक भी लाखों रुपए मुनाफा कमा रहे है। कस्बे के मेडिकल स्टोर संचालन  बड़े पैमाने पर विना बिल के नशे की दवाईयों की खरीद फरोख्त भी करते है। कुछ मेडिकल स्टोर संचालक नशे के सामान गोदाम और अपने घरों में भी छुपा कर रखते हैं। नशे की लत के मारे नवयुवक बदहाली की कगार पर पहुंच चुके है, लेकिन प्रशासन मौन है।
जल्द ही चलेगा अभियान-राजू प्रसाद
औषधि निरीक्षक राजू प्रसाद ने बताया कि कस्बे मे नशीली दवाओं की बिक्री की जानकारी नहीं है। शीघ्र ही नशीली दवाओं के विरुद्ध अभियान चलाकर छापेमारी की जाएगी तथा दोषियों के विरुद्ध कठोर कार्रवाई की जाएगी।
Back to top button
E-Paper