मंदसौर: गुस्से में लोगो का फूटा कहर, कहा- दरिंदो के लिए सिर्फ सजा-ए-मौत 

मध्य प्रदेश : मंदसौर में 7 साल की बच्ची से हुई हैवानियत के बाद लोगों का गुस्सा फूट पड़ा है. पुलिस ने बच्ची के साथ दरिंदगी करने वाले दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. इस बीच मंदसौर और इंदौर में भारी जनसमूह दुष्कर्मियों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन करने के लिए इकट्ठा हुआ. चारों ओर से सिर्फ एक ही आवाज उठ रही है और सिर्फ एक मांग की जा रही है, और वह है दुष्कर्मियों के लिए फांसी.

सीसीटीवी फुटेज के आधार पर गिरफ्तार किए गए दरिंदे 

आरोपी इरफान के खिलाफ उसके गांव वालों का ही गुस्सा फूट पड़ा है. इरफान के गांव रिंगनोद के लोगों ने कहा है कि अगर कोर्ट इरफान को फांसी की सजा देता है तो उसके शव को गांव में दफनाने तक नहीं दिया जाएगा.

बता दें कि सीसीटीवी फुटेज में बच्ची इसी इरफान नाम के शख्स के पीछे-पीछे जाती दिखी थी. पूछताछ के दौरान दोनों आरोपियों ने अपना जुर्म स्वीकार कर लिया है. उन्होंने बताया कि स्कूल खत्म होने के बाद स्कूल के बाहर पिता का इंतजार कर रही बच्ची को उन्होंने लड्डू देकर फुसलाया था.

मंदसौर में मासूम के साथ हुई रेप की वारदात के बाद सड़कों पर विरोध का सैलाब उमड़ पड़ा है. मंदसौर से लेकर रतलाम तक विरोध प्रदर्शन हुए. नीमच के अलावा ढेरों गांव तक बंद रहे.

बच्ची की हालत में सुधार

इस बीच इंदौर के एमवाई हॉस्पिटल के डॉक्टर बच्ची के स्वास्थ्य की पल-पल की जानकारी मीडिया को दे रहे हैं. शनिवार की सुबह डॉक्टरों ने बताया कि बच्ची की हालत में धीरे-धीरे सुधार हो रहा है. एक गायनकोलॉजिस्ट और एक पीडियाट्रिक सर्जन लगातार बच्ची के स्वास्थ्य पर नजर रखे हुए हैं. दोनों विशेषज्ञों को बाहर से बुलाया गया है.

एमवाई हॉस्पिटल के सुपरिंटेंडेंट ने बताया कि बच्ची ने सेमी लिक्विड डाइट लेना शुरू कर दिया है और उम्मीद है कि आने वाले 2 सप्ताह में बच्ची पूरी तरह स्वस्थ हो जाएगी. वहीं किसी दूसरे अस्पताल में इलाज के सवाल पर उन्होंने कहा कि बच्ची के परिजन एमवाई हॉस्पिटल के इलाज से संतुष्ट हैं और उन्होंने ऐसी कोई मांग प्रबंधन से नहीं की है.

Back to top button
E-Paper