भुखमरी की कगार पर मांझा कारीगर अताउर्रहमान से की मुलाकात

इमरान खान

बरेली।पीएम पोदी के सांसद संतोष गंगवार के क्षेत्र बरेली में मांझा कारीगरों की हालत बाद से बदतर होती जा रही है। लॉकडाउन की वजह से माझे के कारीगर काम नही कर पा रहे है जब काम कारीगर लगाते है तो पुलिस मांझे के अड्डे और धागे तोड़ देते  हैं,रोज़मर्रा की कमाई से घर चलाने वालों के सामने भुखमरी की नौबत आ चुकी। इसी मामलें को लेकर मांझा कारीगर पूर्व मंत्री अताउर्रहमान के कैम्प कार्यालय स्थित आवास विकास पर जाकर मिले इस दौरान कारीगरों ने अपना और अपने परिवार की दिक्कतो के बारे में बताया वही मांझा मज़दूर कल्याण समिति के प्रदेश अध्यक्ष अरशद हुसैन व समिति के सचिव छुटका यासीन ने मांझा कारीगरों के साथ अताउर्रहमान से मुलाकात की उन्होंने माझे के अड्डे शुरू कराने के लिए मदद करने की मांग की उन्होंने बताया कि प्रशासन ने बाज़ार खुलने व कामगारों के रोस्टर जारी किए है परंतु  माझा कारीगरों ने इस सम्बंध में जिलाधिकारी व एडीएम प्रशासन से भी मुलाकात की थी और मांझा का काम रोस्टर में शामिल करने को कहा था,

तब प्रशासन ने कहा था की आप काम अपना कर सकते हैं पर पुलिस यह कहकर काम बंद करा देती हैं कि मांझे के काम के लिये रोस्टर में नहीं हैं, इस टाला मटौली में 10 से 15 हज़ार मांझा कारीगर भुखमरी की कगार पर पहुँच चुके हैं रोज़ के दो -तीन सौ रुपये कमाने वालो के सामने बेरोजगारी की समस्या बनी हुई हैं।जब मांझे के अड्डे पर कारीगर काम करते हैं तो सोशल डिस्टेंडिंग के साथ शुरू से करते हैं वही माझा कारीगर की  लगभग ,25 फिट की दूरी बनी रहती हैं।वही पतंग कारीगर मो शकील राजू,आमिर उल्लाह आशु ने बताया कि पतंग के काम में कच्चा काम करने में महिलाएं जुड़ी हुई है,50 रुपये दिनभर में कमाकर उनके घर पर खाना बन पाता हैं उनका काम भी बंद पड़ा हुआ हैं पतंग बनाने का काम भी शुरू कराया जाये ताकि कारीगर अपनी जीविका चला सके। पूर्वमंत्री अताउर्रहमान ने आश्वासन दिया कि आपकी समस्या को प्रशासन के सामने रखा जायेगा और पूरी मदद की जाएगी,उन्होंने याद दिलाते हुए कहा कि जब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी बरेली आये थे तो उन्होंने मांझे कारीगरों और पतंग के कारोबार को आगे बढ़ने की बात कही थी पर अब लॉकडाउन में छुट के आधार पर सब काम शुरू हो रहे हैं तो मांझे के कारीगरों का उत्पीड़न क्यों हो रहा हैं,

जल्द ही अधिकारियो से मिलकर बात की जाएगी। वही समाजसेवी पम्मी खान वारसी ने कहा पतंग व मांझे के कारीगरों की समस्याओ पर ध्यान देते हुए नियमों के साथ उनको काम शुरू कराने की अनुमति दी जाये। इस दौरान मौके पर दिनेश यादव,सय्यद हैदर अली,अहमद खान टीटू,पंडित दीपक शर्मा आदि के अलावा पतंग और मांझे से जुड़े लोगो मे अरशद हुसैन,छुटका यासीन,मोहम्मद शकील,राजू,सिकन्दर अहमद,आमिर उल्लाह आशु आदि मौजूद रहे।

Back to top button
E-Paper