सुल्तानपुर : सिविल कोर्ट के आदेश को नहीं मानते दबंग, डीएम ने कार्यवाही के दिए आदेश

सुल्तानपुर। वर्ष 2001 सिविल न्यायालय उत्तरी में हुए समझौते के आधार पर न्यायालय की अवमानना करने पर बिपक्षी को कोई गुरेज नहीं हो रहा है। विपक्ष के हौसले इस कदर बुलंद है कि जमीन कब्जाने के लिए मंदिर का नया रूप दे रहे हैं इसके लिए ना तो कहीं प्रशासन से कोई मंजूरी प्राप्त है।

घटनाक्रम के अनुसार जयसिंहपुर थाना क्षेत्र के सपाही गांव निवासी भगवान प्रसाद का रास्ते को लेकर पिछले 20 वर्षों से मामला चला आ रहा है। सिविल न्यायालय मे दोनों पक्ष ने बर्ष 2001 में 10 फीट रास्ता देने के लिए सहमत हुए, इसी सहमत को आधार मानते हुए न्यायालय ने जजमेंट कर दिया क्योंकि मामला काफी पुराना हो गया।

विपक्षी पिछले 23 तारीख मई माह 2022 से ही न्यायालय के उस आदेश को दरकिनार करते हुए अपने मनमाफिक राजस्व व पुलिस विभाग की मिलीभगत से दवंगई के बल पर 10 फीट के रास्ते को अवरुद्ध कर दिया। यही नहीं रास्ता अवरुद्ध करने का नया रास्ता अख्तियार करते हुए दबंग मंदिर का रूप देकर अवैध तरीके से कब्जा कर लिया। यहां यह भी बताना लाजमी है कि सरकार ने मंदिर बनाने के लिए जिला प्रशासन से अनुमति लेने के लिए बाध्य किया है।

फिर भी जिला प्रशासन की मौन स्वीकृति के चलते दबंग अपने मनोयोग में कामयाब हो रहे हैं। दरअसल अवैध हो रहे जमीन पर कब्जे से सटी जमीन खेतौनी की है,गांव के एक ने अपनी जमीन की जिसकी हदबरारी उप जिलाधिकारी न्यायालय जयसिंहपुर में विचाराधीन है। हदबरारी की कच्ची पैमाइश हो चुकी है, राजस्व कर्मी ने जमीन की नवैयत ना बदले इसके लिए दोनों पक्ष को अवगत भी करा दिया है। बावजूद विपक्षी दबंग है।

उसी जमीन पर अवैध रूप से मंदिर का स्वरुप देकर निर्माण कर जमीन की नवैयत बदलने का काम कर रहे हैं जिस पर जिलाधिकारी रवीश गुप्ता ने एसडीएम को तत्काल कार्रवाई करने का निर्देश दिया है। इस संबंध में डीएम रवीश कुमार गुप्ता ने बताया कि शिकायतकर्ता की शिकायतों को गम्भीरता से लेते हुए एसडीएम अरविंद कुमार को कार्यवाही करने का निर्देश दिया गया है । दबंगों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की जाएगी ।

Back to top button