औरैया : मां बेटे ने संदिग्ध परिस्थितियों में की आत्महत्या

औरैया। अछल्दा क्षेत्र के रूरूकला गांव में मां बेटे ने संदिग्ध परिस्थितियों में आत्म हत्या कर ली।  गांव में आत्महत्या किये जाने की खबर से हडकंप मच गया। अभी तक उनकी आत्महत्या का कारण स्पष्ट नहीं हो सका है। पुलिस मामले की जांच में जुटी गई है। जानकारी के मुताबिक थाना क्षेत्र के गांव रूरूकला में स्वर्गीय रमेश चंद्र का पुत्र अवध किशोर अपनी मां किशोरी के साथ रहता था। रमेश चंद्र एक स्कूल में चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी 15 साल पहले मृत्यु हो गई थी। परिवार को पेंशन मिलती थी। उसी से गुजर बसर होता था। बीती शाम किशोरी व उसके पुत्र अवध किशोर ने संदिग्ध परिस्थितियों में आत्महत्या कर ली।

मृतकों को देखकर ऐसा प्रतीत हो रहा था जैसे कोई जहरीला पदार्थ खाया हो। सीओ बिधूना मुकेश प्रताप सिंह ने बताया कि रमेश चंद्र का पुत्र अवध किशोर नशे का आदी था। उसके परिवार को 11 हजार रूपये पेंशन मिलती थी इसी से गुजर बसर करते थे। फिर भी आर्थिक तंगी से जूझने के कारण आत्महत्या किये जाने की खबरों का संज्ञान लेते हुए जिलाधिकारी अभिषेक सिंह ने उप जिलाधिकारी बिधूना से जांच आख्या उपलब्ध कराने के निर्देश दिये। जांच आख्या में उपजिलाधिकारी राशिद अली खान ने बताया कि इस सम्बन्ध में  खंड विकास अधिकारी अछल्दा, नायब तहसीलदार अछल्दा, पूर्ति निरीक्षक बिधूना एवं क्षेत्रीय खाद्य अधिकारी औरैया को मौके पर भेजकर जांच करायी गयी।

सम्बंधित अधिकारियों ने जांच के दौरान पाया कि मृतक अवध किशोर के पिता स्व0 रमेश चंद पाण्डेय  नेविलगंज अछल्दा स्थित इंटर कॉलेज में चपरासी पद पर कार्यरत थे। सेवानिवृत्त के उपरांत उनको पेंशन मिलती थी तथा रमेश चन्द्र की मृत्यु के उपरांत उनकी पत्नी किशोरी देवी को लगभग 11 से 12 हजार प्रति माह पेंशन मिल रही थी। मृतक अवध किशोर या किशोरी देवी के नाम राशन कार्ड नहीं था लेकिन ग्राम रूरूकला उचित दर विक्रेता राजाराम द्वारा इसी 1 जून को ही 10 किलो चावल व 10 किलो गेहूं प्राप्त कराया गया था। राजस्व अभिलेखों में मृतक अवध किशोर या किशोरी देवी के नाम भूमि अंकित नहीं है। लेकिन ये बटायी पर खेती करते थे। फिलहाल पुलिस ने शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज पूरे मामले की जांच में जुट गई है

Back to top button
E-Paper