संसाधनो की कमी के बावजूद हजारो बच्चो को दे रहे हैं आनलाईन माध्यम से शिक्षा

ग्रामीण क्षेत्रो मे जला रहे शिक्षा की ज्योति,बच्चो को कर रहें हैं जागरूक
क़ुतुब अन्सारी

बहराइच l जिले के ग्रामीण क्षेत्रो मे कोरोनावायरस के कारण लॉकडाउन की स्थिति बनी हुई है। कोरोनावायरस के कारण बनी स्थिति का असर सबसे ज्यादा शिक्षण संस्थानो पर पड़ रहा है । सभी शिक्षण संस्थान बंद हैं साथ मे होने वाली सभी परीक्षाएं भी स्थगित हैं। जिससे ग्रामीणो क्षेत्रो मे रहने वाले छात्र- छात्राओ के अध्ययन पर काफी असर पड़ रहा है ।


नया सत्र प्रारंभ होने पर भी असमंजस की स्थिति बनी हुई है। ऐसे मे हुजूरपुर विकासखंड के थाना रानीपुर के ताजपुर मे स्थित ब्लू बेल्स एवरग्रीन एकेडमी के द्वारा संसाधनो के कमी के बावजूद ग्रामीणो क्षेत्रो मे यूट्यूब के माध्यम से हजारो बच्चो के आनलाईन शिक्षा दे रहे हैं। जो प्रत्येक दिन बच्चे ऑनलाइन कामों को पूरा करके व्हाट्सएप जरिए पुष्टि करा रहे हैं।
अभिभावक भी बढ़ चढ़कर हिस्सा ले रहे हैं जो भी कार्य विद्यालय के द्वारा दिए जाते हैं उनको अपने बच्चों के द्वारा कराकर  विद्यालय के नंबर पर व्हाट्सएप करके उसकी पुष्टि कराते हैं। विद्यालय के शिक्षक आनलाईन माध्यम से छात्रो को पढ़ा रहें हैं।


आनलाईन पढ़ाई के साथ-साथ छात्रो को कोरोनावायरस के संक्रमण के बचाव, सकारात्मक, रोचक, उपयोगी बातो के माध्यम से जागरूक कर रहे हैं । शिक्षक प्रत्येक दिन रोचक विषयो की तैयारी कर यूट्यूब पर अपलोड कर रहे हैं । इस अहम भूमिका में सर्वप्रथम विद्यालय के प्रबंधक  मुस्तकीम अहमद  अंग्रेजी  रवि कुमार विश्वकर्मा कंप्यूटर, मस्तराम मौर्या  गणित व सुधीर यादव विज्ञान के शिव कुमार मिश्र हिन्दी दिनेश यादव भूगोल पवन राना ग्रामर का कार्य देख रहें  हैं ।
विद्यालय के प्रबन्धक मुस्तकीम अहमद ने बताया कि लाकडाउन के कारण आनलाईन क्लास चलाने के लिए उपयोगी सामान न मिल पाने के कारण अपने तरीके से संसाधनो के कमी होने के बावजूद बच्चो को आनलाईन शिक्षा दे रहें हैं ।


मोबाइल के जरिए विडियो को शूट कर यूट्यूब पर अपलोड किया जाता है ।
ग्रामीण क्षेत्रों मे नेटवर्किंग समस्या होने के कारण 1 विडियो अपलोड करने मे 1 से 2 घनटे लग जाते हैं । बच्चो तक विडियो पहुँचाने मे काफी कठिनाई का सामना करना पड़ता है लेकिन बच्चो के भविष्य के आगे ये सब बहुत कम हैं। बच्चो का भविष्य हमारे लिए सर्वप्रथम है।

Back to top button
E-Paper