क्या आखिरी बार मैं आपको ‘अप्पा’ कह सकता हूं? : एम के स्टालिन

तमिलनाडु के पूर्व सीएम और डीएमके के चीफ मुथुवेल. करुणानिधी ने मंगलवार को अंतिम सांस ली. इसके बाद कई बड़े नेताओं ने करुणानिधि को श्रद्धांजलि दी. करुणानिधि के बेटे एम के स्टालिन ने उनको एक कविता के जरिए श्रद्धांजलि दी है. स्टालिन ने अपने ट्वीटर हैंडल पर इस कविता को पोस्ट किया. स्टालिन हमेशा अपेन पिता को थलाइवा यानी बॉस कहा करते थे. उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा, मैं जिंदगी भर आपको ‘लीडर’ कहकर पुकारता रहा.

क्या आखिरी बार आपको ‘अप्पा’ कह सकता हूं?

स्टालिन संभाल सकते हैं पार्टी की कमान

करुणानिधी पिछले 50 सालों से पार्टी की कमान संभाले हुए थे. दो साल पहले उन्होंने स्टालिन को सियासि वारिस घोषित करते हुए पार्टी की कमान संभालने की तमाम अटकलों पर विराम लगा दिया था. हालांकि उन्होंने खुद कभी राजनीति से सन्यास नहीं लिया और पार्टी की कमान अपने हाथों में ही रखी.

पिछले साल जनवरी में स्टालिन को पार्टी का कार्यकारी अध्यक्ष बना दिया गय था. करुणानिधी की बेटी कनिमोझी ने 2016 में कहा था उनके पिता के बाद उनके सौतेले भाई स्टालिन ही पार्टी की कमान संभालेंगे. इन सब चीजों को देखते हुए स्टालिन और उनके भाई अनिमोझी के बीच सत्ता के लिए संघर्ष शुरू हो गया और धीरे-धीरे कनिमोझी पार्टी से दूर होते चले गए.

ऐसे में अटकलें लगाई जा रही हैं कि करुणानिधी के निधन के बाद स्टालिन को कार्यकारी अध्यक्ष से पार्टी का अध्यक्ष बनाया जा सकता है.

करुणानिधि ने तीन शादियां की थीं. एमके स्टालिन करुणानिधि और उनकी दूसरी पत्नी दयालु अम्मल के बेटे हैं. एमके अझागिरी, थामिलारासु और सेल्वी स्टालिन के सगे भाई-बहन हैं.

बता दें कि 94 साल के करुणानिधि की तबीयत काफी दिनों से खराब चल रही थी. ब्लड प्रेशर और यूरिनरी ट्रैक्ट इंफेक्शन की शिकायत के बाद 27-28 जुलाई की रात उन्हें चेन्नई के कावेरी हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया था. मंगलवार शाम 6:10 बजे उन्होंने आखिरी सांसें लीं.

Back to top button
E-Paper