“नमस्ते अंकल”हम मासूम बच्चों के भविष्य की सोचो! लॉक डाउन के साथ सामाजिक दूरी का पालन भी करो प्लीज

कक्षा दो का मासूम छात्र आकर्षित पेंटिंग बनाकर कर रहा लोगो को जागरूक

अशोक सोनी

जरवल बहराइच। जरवल कस्बे के न्यू रेज एकेडमी स्कूल का एक  कक्षा दो का मासूम बच्चे आकर्षित उर्फ शिवांश सोनी आज कल कोविड-19 को लेकर आ लाइन पढ़ाई के खाली समय जब उसके खेलने-कूदने का समय होता है तो खेल-कूद के समय मे अपने हाथों से लोगो को कोरोना संक्रमण से बचने के लिए पेंटिंग तैयार कर लोगो को जागरूक कर रहा है जिसकी मासूमियत पर लोग बड़े प्यार से उसकी ओर निहारने लगते है

।जिसकी चर्चा अब धीरे-धीरे होने भी लगी है।इस नन्हे बालक राह चलते लोगो से नमस्ते अंकल के संबोधन के बाद अपनी तोतली भाषा मे लॉक डाउन व कोरोना वायरस की पेंटिंग दिखा कर कहता है अंकल-अंकल “जान है तो जहां है” अपने लिए न सही तो बच्चों के भविष्य की सोचो सरकार लॉक डाउन की बात करती है आप सामाजिक दूरी तक नही बनाते है।जैसी तोतली बातों को सुन भावुक हो जाते है।नन्हा बालक आकर्षितअपने द्वारा बनाई गई कोरोना वायरस की पेंटिंग को दिखाते हुए लोगो से अंकल अंकल कह कर कहता है मुझे कितने नंबर दोगे अंकल जिसकी मासूमियत पर लोग उसकी ओर एकटक निहार कर पुचकारने पर विवश हो जाते है।कोरोना वायरस की जागरूकता की प्रतिदिन नई पेंटिंग बनाना उसे बहुत अच्छा भी लगने लगा है। जिससे उसके सम्पर्क के सभी लोग कोरोना वायरस व उसके संक्रमण के प्रति जागरूक भी हो रहे है।

जरवल के न्यू रेज एकेडमी के प्रधानाचार्य के अनुसार लाकडाउन के बाद स्कूल के बंद होंने से बच्चो की पढ़ाई पर बुरा असर पड़ रहा था। जिसके बाद स्कूल प्रबंधन द्वारा व्हाट्सएप ग्रुप बनाया गया और छात्रो की आॅनलाइन पढाई शुरू की गई जिससे आने वाले दिनों में उन्हें पढ़ाई में असुविधा न हो। व्हाट्स पर बने ‘‘स्कूल ग्रुप’’ में सभी अध्यापक क्लास के छात्र-छात्राओं को समयनुसार नोट्स व होम वर्क प्रदान करते है। वहीं कक्षा दो का छात्र आकर्षित सोनी ‘‘शिवांश’’ द्वारा स्कूल की पढ़ाई से समय बचने के बाद कोरोना के प्रति जागरूकता हेतु प्रतिदिन नई पेंटिंग बनायी जाती है।
छात्र शिवांश का कहना है कि कोरोना वायरस के चलते इस समय बाहर खेलना कूदना सब बंद है और हमारी ऑनलाइन पढ़ाई चल रही है। शिक्षको द्वारा पढ़ाई के बाद जो समय बचता है उसमें वह प्रतिदिन एक पेंटिंग बनाता है जिससे पारिवारिक व पास-पड़ोस के लोगो को कोरोना के प्रति जागरूक करता है। वह कहता है मेरे चाचू अस्मित रस्तोगी,मेरी दादी माँ व मम्मी पापा का पेन्टिंग बनाने मे बाद योगदान मिलता है।

Back to top button
E-Paper