मुगलसराय स्टेशन हुआ दीनदयाल उपाध्याय जंक्शन 

मुगलसराय। उत्तर प्रदेश के मुगलसराय जंक्शन का नाम आज से बदल गया है। अब यह ऐतिहासिक रेलवे स्टेशन पंडित दीन दयाल उपाध्याय के नाम जाना जाएगा। भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने मुगलसराय में आज आधिकारिक रूप से इसकी शुरुआत की। इस दौरान रेल मंत्री पीयूष गोयल और यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी मौजूद रहे।

मुगलसराय जंक्शन बीती बात, अब कहिए पंडित दीनदयाल उपाध्याय स्टेशन

आपको बता दें कि जून में ही यूपी सरकार ने नोटिफेकशन जारी करके यह सूचना दी थी कि अब मुगलसराय स्टेशन का नाम दीन दयाल उपाध्याय होगा। दरअसल आरएसएस और संघ परिवार से जुड़े संगठन लंबे वक्त से मांग कर रहे थे कि मुगलसराय स्टेशन का नाम दीन दयाल उपाध्याय किया जाए, जिनकी मांग पर अब जाकर मुहर लगी है।

 दीनदयाल उपाध्याय का शव मिला था यहां...

दीनदयाल उपाध्याय का शव मिला था यहां…

गौरतलब है कि 1968 में आरएसएस-बीजेपी के विचारक दीनदयाल उपाध्याय का शव मुगलसराय स्टेशन पर संदिग्ध हालत में पाया गया था, इसके बाद से ही लगातार इस स्टेशन का नाम बदलने की मांग हो रही थी।

आज तक नहीं पता चला मौत कैसे हुई?

आज तक नहीं पता चला मौत कैसे हुई?

पं. दीनदयाल उपाध्याय की पहचान एक महान चितंक के रूप में है, वो नई सोच और प्रगतिशील शोधक के रूप में लोगों के बीच में लोकप्रिय रहे हैं।जनसंघ के नवनिर्वाचित अध्यक्ष दीन दयाल उपाध्याय का क्षत-विक्षत शरीर 11 फरवरी 1968 को मुगलसराय के पास रेलवे लाइन के पास पाया गया था, तब से आज तक इस बात से पर्दा नहीं उठा कि दीन दयाल की मौत कैसे हुई ।

Back to top button
E-Paper