जहरीला जाम : लगातार बढ़ रही मृतकों की संख्या, कई की हालत नाजुक

Related image

शराब कांड: किसी भी स्तर पर लापरवाही बर्दाश्त नहीं : मुख्य सचिव

लखनऊ/सहारनपुर । जहरीली शराब कांड से जनपद में कोहराम मचा हुआ है। जहरीली शराब पीने के कारण लोगों की मौत की संख्या लगातार बढ़ रही है। अभी तक 42 मौतें हो चुकी हैं। वहीं बड़ी संख्या में लोग गंभीर हालत में अस्पतालों में भर्ती है। डाॅक्टर लगातार उनका जीवन बचाने का प्रयास कर रहे हैं। वहीं मुख्य सचिव डॉ. अनूप चंद्र पाण्डेय ने शनिवार को प्रदेश के सभी जिलाधिकारियों तथा पुलिस कप्तानों को अवैध शराब के कारोबार से जुड़े लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए हैं। सहारनपुर जनपद के लगभग छह गांवों में जहरीली शराब पीने से मरने वालों की तादात लगातार बढ़ रही है।

100 से ज्यादा लोगों का सहारनपुर और मेरठ के अस्पतालों में इलाज किया जा रहा है। जिलाधिकारी आलोक कुमार पांडेय का कहना है कि अवैध शराब का धंधा करने वाले 30 लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है। इसमें बारह से ज्यादा लोग उत्तराखंड के रहने वाले हैं। इन सभी पर रासुका लगाई जाएगी। अवैध शराब की भट्ठियों को ध्वस्त करने का कार्य जोरों पर है। जब तक इस पूरे प्रकरण की हकीकत सामने नहीं आ जाती है, जिला में पुलिस की कार्रवाई जारी रहेगी। पुलिस ने आबकारी विभाग की टीम के साथ मिलकर अभियान चलाया है। जिसमें चार सौ लीटर से अधिक अवैध शराब जब्त की गई।

जिलाधिकारी ने बताया कि शराब को जांच के लिए लखनऊ लैब भेजा जा रहा है। अभी तक सामने आया है कि शराब को तेज बनाने के लिए रैट पॉइजन का भी इस्तेमाल किया जाता था। गांवों में मचा कोहराम, नहीं जले चूल्हे सहारनपुर में जहरीली शराब पीने से उमाही, सेलमपुर, ताजपुर, डंकोवाला, सरबतपुर, गांगलहेड़ी, खेड़ा मुगल, आसनवाली, जनकपुरी और कोलकी गांवों में कई लोगों की मौत हुई है। इससे इन गांवों में कोहराम मचा हुआ है।

अधिकांश मरने वाले मजदूर परिवारों से थे। पोस्टमार्टम के बाद उनके शवों का अंतिम संस्कार किया जा रहा है। शवों की अर्थियां देखकर लोग सिहर उठते हैं। परिजनों की चीत्कार कलेजे को चीर रही है। इन गांवों में चूल्हे भी नहीं जल रहे हैं। हालात को संभालने में प्रशासन के हाथ-पांव फूले हुए हैं। सहारनपुर रेंज के आईजी शरद सचान तेजी से अपनी जांच पूरी करने में लगे हैं। आज शाम तक उन्हें अपनी जांच मुख्यमंत्री कार्यालय को भेजनी है। माना जा रहा है कि इस जांच रिपोर्ट के बाद बारह से ज्यादा अधिकारियों पर गाज गिरना तय है।

गौरतलब है कि सहारनपुर व कुशीनगर में शराब कांड के बाद पूरे प्रदेश में पुलिस जहरीली शराब के कारोबारियों पर शिंकजा कस रही है। वहीं मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद सहारनपुर के नागल थाना प्रभारी सहित दस पुलिसकर्मी और आबकारी विभाग के तीन इंस्पेक्टर व दो कांस्टेबल निलम्बित किए जा चुके हैं। जांच रिपोर्ट के बाद नपने वाले अधिकारियों की संख्या बढ़नी तय है।

वहीं मुख्य सचिव डॉ. अनूप चंद्र पाण्डेय ने शनिवार को प्रदेश के सभी जिलाधिकारियों तथा वरिष्ठ पुलिस अधीक्षकों, पुलिस अधीक्षकों को अवैध शराब के कारोबार से जुड़े लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि इस धंधे में लिप्त लोगों को चिह्नित किया जाए। इस सम्बन्ध में किसी भी स्तर पर लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। इसके लिए प्रदेशव्यापी अभियान प्रारम्भ कर दिया गया है।

Back to top button
E-Paper