पालघर में साधुओं पर फिर हमला, मंदिर में तोड़फोड़ और लूटपाट

पालघर
महाराष्ट्र में साधुओं पर हमले की घटनाएं थमने का नाम नहीं ले रही हैं। बीते दिनों नांदेड़ में लिंगायत साधु की हत्या के बाद पालघर जिले के वसई तालुका गांव में बुधवार रात एक मंदिर के पुजारी और उसके सेवाकर्मी पर हमला हुआ। हमलावर इसके बाद मंदिर की दानपेटी से नकदी और अन्य सामान लेकर भाग निकले।

घटना बुधवार रात साढ़े 12 बजे की है। पालघर जिला के वसई तालुका के भालिवली इलाके में मुंबई-अहमदाबाद महामार्ग डोंगर स्थित शिव मंदिर के पुजारी और सहकर्मी के ऊपर बुधवार की रात 12.30 बजे के करीब 3 हमलावरों ने हमला किया और दान पेटी समेत नकदी और अन्य समान लेकर भाग निकले। विरार पुलिस स्टेशन वरिष्ठ अधिकारी सुरेश वराडे ने बताया कि पुलिस ने धारा 394 और अन्य धारा के तहत 3 आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है और आगे की जांच में जुट गई है।

पहले भी हो चुके हैं साधुओं पर हमले
घटना के 3 आरोपियों में से एक आरोपी को गुरुवार को अरेस्ट कर लिया गया। उसके पास से 2000 रूपये भी बरामद किए गए हैं। वहीं अन्य दो आरोपी अभी भी फरार हैं। बताया जा रहा है कि हमलावरों ने भालिवली क्षेत्र में जागृत महादेव मंदिर के पुजारी शंकरानंद दयानंद सरस्वती (54) और उनके सहकर्मी श्यामसिंह सोमसिंह ठाकुर (60) के ऊपर हमला किया था। वहीं, इससे पहले अप्रैल में पालघर जिले के ही कासा पुलिस स्टेशन इलाके में चोर समझकर दो साधुओं और एक ड्राइवर की पीट-पीट कर हत्या कर दी गई थी। कुछ दिन पहले नांदेड़ में भी लिंगायत समुदाय के एक साधु की उसके आश्रम में घुसकर हत्या की गई थी।

Back to top button
E-Paper