बेटी का जला हुआ पैर लेकर पिता थाने जा पहुंचा, पुलिस से लगाई न्याय की गुहार

भोजपुर में थैले में बेटी का जला हुआ पैर लेकर एक पिता थाने पहुंचा। पिता रो-रोकर बस एक ही बात कह रहा- ‘मुझे न्याय चाहिए। इस थैले में मेरी बिटिया के पैर हैं। बाकी तो ससुराल वालों ने जला दिया। जब तक मैं पुलिस लेकर पहुंचता उसे पूरा ही जला दिया। उसका एक पैर बचा था। पुलिस की मदद से उसे ही समेट पाया। पैरों की बिछिया और पायल से ही पहचान पाया कि ये मेरी बेटी ममता है।’

पति और ससुर ने मार डाला

मामला मुफस्सिल थाना के बरौली गांव का है, जहां सोमवार की रात अखिलेश बिंद की बेटी ममता को उसके पति और ससुर ने मार डाला। पहले शव को बालू में दफनाया। बाद में सबूत मिटाने के लिए शव को जला दिया। जब तक अखिलेश पुलिस को लेकर पहुंचे, डेड बॉडी जल चुकी थी। केवल बाएं पैर का थोड़ा हिस्सा बचा था, जिसे लेकर मजबूर पिता थाने पहुंचा। गुरुवार को इस पैर को पटना में DNA टेस्ट के लिए भेजा गया। मामले को लेकर FIR दर्ज की गई है।

लड़की से की गई एक लाख रुपए की मांग

पुलिस के मुताबिक पिछले साल मई में ही ममता की शादी हुई थी। थोड़े समय बाद से ही एक लाख रुपए और देने की डिमांड होने लगी। सुसरालवालों का कहना था- लड़का बिजनेस करना चाहता है। लड़की के परिजन पैसे नहीं दे सके तो सोमवार देर रात पति शत्रुघ्न बिंद और ससुर राम प्यारे बिंद ने ममता की हत्या कर दी। सबूत मिटाने के लिए शव को सारीपुर विष्णुपुर गांव के सोन नदी के किनारे दफना दिया।

कुछ घंटे बाद शव निकालकर जलाने लगे। इसी दौरान ममता के पिता पुलिस के साथ पहुंचे, तब तक आरोपी फरार हो चुके थे। शरीर का बाकी हिस्सा जल चुका था। बायां पैर बचा था। पुलिस ने जांच के लिए उसे ही उठा लिया। उसमें पायल और बिछिया थी। इसी से अखिलेश बिंद अपनी बेटी को पहचान सके।

DNA टेस्ट के लिए भेजा गया पैर

भोजपुर के ASP हिमांशु ने कहा कि शव के सत्यापन के लिए DNA टेस्ट होगा, जिसके लिए शव को पटना फोरेंसिक लैब भेजा है। इस बीच, जिस सवारी गाड़ी से ममता को दफनाने के लिए ले जाया गया था, उसके ड्राइवर को लोगों ने पकड़ा है। पुलिस उससे पूछताछ कर रही है।

पहले बालू में दफनाया

ममता देवी के पिता अखिलेश बिंद और बड़े मामा बिगन बिंद ने बताया कि ममता ने दो दिन पहले भी उसने अपनी मौसी से फोन पर बताया था कि उसका पति और ससुर राम प्यारे एक लाख रुपए मांग रहे हैं। पैसे नहीं थे, इसलिए नहीं दे सके। इसके बाद ससुराल पक्ष के लोगों ने ममता की हत्या कर उसकी लाश जलाकर साक्ष्य मिटाने का प्रयास किया।

आरोपी शव को एक किराए की सवारी गाड़ी में लेकर बालू घाट गए। वहां शव को पहले बालू में दबा दिया। फिर ड्राइवर को भगा दिया। इसके बाद शव को बालू से निकालकर जला दिया।

Back to top button