बुर्का पर बैन : भारी पड़ा नकाब पहनना, लगा ये जुर्माना

स्टॉकहोम : डेनमार्क में एक युवती को नकाब पहनना भारी पड़ गया। उस पर 1,000 क्रॉनर का जुर्माना लगाया गया है, जो भारतीय मुद्रा के अनुसार करीब 10 हजार रुपये है। यहां सार्वजनिक स्‍थलों पर किसी भी तरह से चेहरा ढकना प्रतिबंधित है और अगर कोई ऐसा करता है तो उस पर जुर्माना किए जाने का प्रावधान है।

इसी प्रतिबंध के तहत डेनमार्क में 28 साल की एक युवती पर जुर्माना लगाया गया है और वह देश के इस नए विवादास्‍पद कानून का उल्‍लंघन करने पर फाइन किए जाने वाली पहली महिला बन गई है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, महिला को होरशोल्म के एक शॉपिंग सेंटर में नकाब पहने देखा गया। वहां एक अन्‍य महिला ने उसका नकाब हटाने की कोशिश की, जिसके बाद दोनों में जबरदस्‍त झगड़ा हुआ।

इस दौरान खींचतान में उसका नकाब उतर गया, पर जैसे ही पुलिस मौके पर पहुंची, उसने दोबारा इसे पहन लिया। पुलिस ने शॉपिंग सेंटर का सीसीटीवी कैमरा फुटेज खंगाला और इसके बाद महिला पर जुर्माना लगाया। इसके बाद जब पुलिस ने उसे नकाब हटाने या सार्वजनिक स्‍थल छोड़कर जाने को कहा तो नकाब हटाने की बजाय वह वहां से चली गई।

डेनमार्क में बुर्का पर प्रतिबंध से संबंधित यह कानून एक अगस्‍त से प्रभावी है। हालांकि डेनमार्क की संसद ने इससे संबंधित प्रस्‍ता‍व को मई के आखिर में ही पारित कर दिया था। सरकार की ओर से पेश इस प्रस्‍ताव को सोशल डेमोक्रेट्स और घोर दक्षिणपंथी डैनिश पीपुल्स पार्टी का भी समर्थन मिला था। इसके साथ ही डेनमार्क इस तरह की रोक लगाने वाले यूरोपीय देशों में शामिल हो गया।

यूरोप में बुर्का पर बैन लगाने वाला पहला देश फ्रांस है। इसके अलावे बेल्जियम में भी बुर्का पर प्रतिबंध है। डेनमार्क में बुर्का पर प्रतिबंध से संबंधित नियमों के दायरे में किसी भी तरह के नकाब या हिजाब के अलावे नकली दाढ़ी भी शामिल है, जिसके कारण चेहरा पूरा नहीं दिखता।

Back to top button
E-Paper