रणजी ट्रॉफी के फाइनल में बंगाल के 9गेंदबाजों ने जमाए कमाल के अर्धशतक

क्रिकेट में वैसे तो कई रिकॉर्ड बने हैं और टूटे भी हैं, लेकिन, बुधवार को बेंगलुरु के अलूर क्रिकेट स्टेडियम में अनोखा रिकॉर्ड बना है। यहां रणजी ट्रॉफी के क्वार्टर फाइनल मुकाबले में बंगाल की पहली पारी में उसके सभी 9 खिलाड़ियों ने अर्धशतक जमाए हैं, जबकि 10वां खिलाड़ी अपनी पारी का इंतजार ही करता रह गया। इन 9 खिलाड़ियों में बंगाल के खेल मंत्री मनोज तिवारी भी थे। उन्होंने 173 गेंद में 73 रन की पारी खेली।

फर्स्ट क्लास क्रिकेट में ऐसा पहली बार हुआ है जब किसी एक टीम की ओर से एक ही पारी में 9 खिलाड़ियों ने अर्धशतक जमाए हों। 88 साल के रणजी इतिहास में बंगाल ऐसा करने वाली पहली टीम बनी।

दोनों ने शतकीय पारियां खेलीं

बंगाल ने झारखंड के खिलाफ अपनी पहली पारी में 7 विकेट पर 773 रन बनाकर पारी घोषित की है। उसकी ओर से बल्लेबाजी करने उतरे सभी नौ खिलाड़ियों ने 50+ स्कोर किया है। इनमें से दो ने अपने अर्धशतक को सैकड़े में तब्दील किया है। इनमें 15 छक्के और 79 चौके शामिल हैं। पारी में तीसरे विकेट के लिए 243 रन की साझेदारी हुई। यह साझेदारी ए मजूमदार (117) और सुदीप कुमार (186) के बीच हुई। दोनों ने शतकीय पारियां खेलीं।

आकाश दीप ने 53 रनों की अर्धशतकीय पारी खेली

9वें नंबर पर खेलने आए आकाश दीप ने 294.44 के स्ट्राइक रेट से 53 रनों की अर्धशतकीय पारी खेली। उन्होंने महज 18 गेंदों में अपना अर्धशतक पूरा किया। 48 रन तो उन्होंने छक्के मारकर बना डाले। आकाश दीप ने आठ छक्के जमाए। उनकी पारी में कोई चौका शामिल नहीं था।

किसी टीम की एक पारी में नहीं लगी फिफ्टी

यदि रिकॉर्ड बुक्स पर नजर डालें, तो किसी टीम की ओर से एक पारी में इतनी फिफ्टी नहीं लगी हैं। इससे पहले, 1893 में ऑस्ट्रेलियंस और ऑक्सफोर्ड एंड कैंब्रिज यूनिवर्सिटी पास्ट एंड प्रिजेंट टीम के मुकाबले की एक पारी में आठ हाफ सेंचुरी लगी थी।

Back to top button