लखनऊ गोलीकांड : गमगीन माहौल हुआ विवेक तिवारी का अंतिम संस्कार, बड़े भाई ने दी मुखाग्नि; प्रदेश के मंत्री रहे मौजूद

Apple area sales manager vivek tiwari cremation

लखनऊ.  लखनऊ के गोमती नगर इलाके में कथित रूप से पुलिस की फायरिंग में मारे गए  एप्पल के एरिया सेल्‍‍‍स मैनेजर विवेक तिवारी का आज भैंसा कुंड में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच अंतिम संस्कार कर दिया गया गया। बड़े भाई राजेश तिवारी ने अपने भाई विवेक तिवारी को मुखाग्नि दी। उस समय वहां का माहौल बेहद गमगीन हो गया.

Apple area sales manager vivek tiwari cremation

विवेक तिवारी के अंतिम संस्कार के दौरान लखनऊ के भैंसाकुंड में इस दौरान योगी में कानून मंत्री ब्रजेश पाठक और आशुतोष टंडन ने मृतक विवेक तिवारी के परिजनों से भैंसाकुंड पहुंचकर मुलाकात की । इस अवसर पर मंत्री ब्रजेश पाठक ने पीडि़त परिवार को न्याय दिलाने का आश्वासन भी दिया. वहीं अतिंम संस्कार से पहले विवेक तिवारी के घर पर कड़ी सुरक्षा के बीच उनके पार्थिव शरीर को रखा गया। इसके साथ ही भैंसा कुंड में भी सुरक्षा व्यवस्था काफी कड़ी थी।

न्याय दिलाने का भरोसा

Apple area sales manager vivek tiwari cremation

हांलाकि विवेक तिवारी के अंतिम संस्कार के बाद भी इस हत्याकांड से जुड़े कई राज अभी खुलने बाकी हैं। इस अनसुलझी गुत्थी के सुलझने के बाद ही पूरे मामले में दूध का दूध और पानी का पानी हो पाएगा। वहीं विवेक तिवारी के अंतिम संस्कार में पहुंचे योगी सरकार के विधि एवं न्याय मंत्री बृजेश पाठक ने पीड़ित परिवार को न्याय दिलाने और दोषियों के खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई का आश्वासन दिया।

वहीं इससे पहले विवेक तिवारी के पार्थिव शरीर को उनकी पत्नी कल्पना तिवारी ने घर से अंतिम विदाई दी। कल्पना तिवारी के परिवार के सभी लोगों ने विवेक तिवारी के पार्थिव शरीर पर माला और फूल चढ़ाए।

Apple area sales manager vivek tiwari cremation

पत्नी को नौकरी और 25 लाख का मुआवजा

पति विवेक तिवारी की हत्या के मामले में पत्नी कल्पना तिवारी ने गोमतीनगर थाने में तहरीर दी है। विवेक तिवारी के साथ गाड़ी में मौजूद उनकी सहकर्मी सना की तरफ से भी हत्या का मुकदमा लिखाया गया है। वहीं इससे पहले लखनऊ के डीएम कौशल राज शर्मा ने मृतक विवेक तिवारी के परिवार को 25 लाख के मुआवजे के साथ ही पत्नी कल्पना तिवारी को नगर निगम में अधिकारी पद पर नौकरी दिए जाने की घोषणा की।

Apple area sales manager vivek tiwari cremation

दरअसल विवेक तिवारी की पत्नी और उनका परिवार अंतिम संस्कार के लिए राजी नहीं था। उनकी मांग थी कि विवेक की पत्नी को सरकारी नौकरी, एक करोड़ रुपए का मुआवजा और मामले की जांच सीबीआई को सौंपी जाए। जिसपर जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा के लिखित आश्वासन के बाद परिजन विवेक तिवारी के अंतिम संस्कार को राजी हुए।

जरूरत पड़ने पर सीबीआई जांच

वहीं इस बीच मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी विवेक तिवारी की हत्या को लेकर बड़ा बयान दिया। उन्होंने कहा कि यह कोई मुठभेड़ का मामला नहीं है। हमने इस पूरे मामले की जांच के आदेश दे दिए हैं साथ ही दोषी पुलिसकर्मियों को गिरफ्तार और बर्खास्त किया जा चुका है। उन्होंने कहा कि किसी भी दोषी को बख्शा नहीं जाएगा। साथ ही सीएम योगी आदित्यनाथ ने कहा कि जरूरत पड़ेगी तो हम इस पूरे मामले की सीबीआई से भी जांच कराएंगे। आपको बता दें कि फिलहाल इस मामले की जांच के लिए लखनऊ के पुलिस महानिरीक्षक सुजीत पांडे की अध्यक्षता में एसआईटी का गठन किया गया है।

Back to top button
E-Paper