दिल्ली मर्डर : शैलजा मेरी नहीं हो सकी, इसलिए उतारा मौत के घाट 

 …3,000 के अधिक कॉल और यूं धरा गया हत्यारा  मेजर निखिल हांडा

नई दिल्ली :  राजधानी दिल्ली में एक मेजर की पत्नी की सनसनीखेज हत्या ने पूरे पुलिस महकमे को सकते में डाल दिया था। हत्या का आरोप भी एक मेजर पर था। पुलिस ने भी सरगर्मी से आरोपी की तलाश शुरू की और 24 घंटे के भीतर उसे मेरठ से गिरफ्तार भी कर लिया। आरोपी मेजर निखिल राय हांडा की गिरफ्तारी के बाद जो कहानी सामने आई उसने सभी का चौंका दिया।

मामला एकतरफा इश्क का था

-अपने करीबी दोस्त और सेना में ही मेजर अमित द्विवेदी की पत्नी शैलजा से हांडा प्यार करता था और पहले से ही एक बच्चे की मां शैलजा से शादी करना चाहता था, शैलजा का ऐसा करने से इनकार के बाद हांडा ने उसकी हत्या कर दी।

-मामले में दुर्घटना की शक्ल देने के लिए उसने मृतक के शरीर को दो बार कार से कुचल भी दिया।

-हालांकि पुलिस शुरू से ही इसे हत्या का मामला मानकर चल रही थी। मृतक के पति ने भी हांडा पर शक जताया था, लिहाजा पुलिस ने उसे खोजना शुरू किया और घटना की एक-एक कड़ी जोड़ते हुए उसने हांडा को अरेस्ट कर लिया।

दीमापुर में हुई थी दोस्ती 

नगालैंड के दीमापुर में 2015 में मेजर अमित की पोस्टिंग के दौरान मेजर हांडा पड़ोसी था, वहीं उनकी शैलजा से नजदीकियां बनीं। पुलिस के मुताबिक, 2017 से दोनों के बीच रिश्ते गहरे होते गए। दो महीने पहले मेजर अमित स्पेशल कोर्स के लिए पत्नी समेत दिल्ली आए, तब भी मेजर हांडा लगातार शैलजा को फोन करते रहा। जब पता चला कि मेजर अमित UN पोस्टिंग पर जाने वाले हैं तो वह शैलजा पर शादी के लिए दबाव बनाने लगा लेकिन शैलजा तैयार नहीं थीं।

पुलिस के मुताबिक

मेजर हांडा शैलजा से मिलने के लिए ही दीमापुर से छुट्टी लेकर 2 जून को आया था। शनिवार सुबह सफेद रंग की कार से वह मिलने पहुंचा। CCTV से पता चला कि शैलजा इत्मिनान से उस कार में बैठी। मेजर हांडा के शादी की बात करने पर गर्मागरम बहस हुई और मेजर ने शैलजा का गला रेत दिया। फिर शैलजा को कार से फेंक दिया और उस पर कार चढ़ाकर हादसा दिखाने की कोशिश की।

पुलिस को था दो लोगों पर शक

पुलिस के मुताबिक, हत्या एक ही शख्स ने की थी मगर दो और लोग भी घेरे में है। निखिल अस्पताल में दिखा था लेकिन हत्या के बाद से वह फरार था और फोन भी स्विच ऑफ था। जांच में पता चला कि शैलजा के साथ अस्पताल में दिख रहा मेजर निखिल हांडा है, और वह भी दीमापुर में तैनात है। लेकिन अचानक शैलजा से मिलने दिल्ली आ गया था। मोबाइल की जांच की गई तो अखिरी कॉल निखिल हांडा की मिली और यही वो आधार बना जिसकी वजह से पुलिस हत्याकांड की गुत्थी सुलझाने में सफल रही। निखिल ने पूछताछ में कबूल किया कि वह 2 जून को दीमापुर से छुट्टी लेकर शैलजा के लिए ही दिल्ली आया था। उसने ठान ली थी कि अगर शैलजा उसकी नहीं हुई तो हत्या कर देगा। आरोपी निखिल का परिवार दिल्ली के साकेत में रहता है। दिल्ली आने के बाद भी निखिल लगातार शैलजा को कॉल करता रहा। योजना को अंजाम देने के लिए आरोपी ने स्विस नाइफ समेत दो चाकू खरीदे। शनिवार सुबह करीब 8:30 बजे निखिल ने शैलजा के मोबाइल पर कॉल किया। सुबह करीब 11:15 बजे उससे मिलने की बात हुई।

शैलजा से मिलने अस्पताल पहुंचा हांडा 

निखिल अपने होंडा सिटी कार लेकर 10:30 आरआर अस्पताल पहुंचा। वहां शैलजा भी फिजियोथेरेपी कराने पहुंच गई। शैलजा ने अपने ड्राइवर से कहा कि वह उसे कॉल कर आने के लिए कहेगी। वहां से शैलजा निखिल की कार में बैठकर चली गईं। आरोपी शैलजा को कार में बिठाकर आरआर अस्पताल के आसपास लेकर घूमता रहा। दोनों के बीच झगड़ा हो गया। आरोपी ने हत्या के बाद सड़क पर फेंका और कार से कुचल दिया। बैक करने के बाद आरोपी ने फिर उसे कुचला। इसके बाद आरोपी कार को यू-टर्न कर मौके से फरार हो गया। शैलजा के ऊपर कार चढ़ने से कपड़े बुरी तरह फट गए। वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपी अपने घर पहुंचा। वहां नहाने के बाद उसने अपने कुछ कपड़े कार में रखे। एक रिश्तेदार के यहां कुछ समय बिताने के बाद वह दिल्ली-एनसीआर में घूमता रहा।

58 सेकंड के लिए ऑन किया फोन और मिली लोकेशन 

दिल्ली में मेजर अमित द्विवेदी की पत्नी शैलजा द्विवेदी के हत्या के आरोप में मेरठ से गिरफ्तार किया गया मेजर निखिल हांडा बेहद शातिर दिमाग था। वह अखबार, टीवी पर पल-पल की अपडेट ले रहा था। वारदात के बाद बंद किए अपने मोबाइल को 58 सेकंड के लिए ऑन करते ही पुलिस ने लोकेशन ट्रेस कर उसे धर दबोचा। पुलिस के मुताबिक गिरफ्तारी के वक्त निखिल के पास से एक मोबाइल और एक लैपटॉप मिला है। उसमें हत्या से जुड़े कुछ राज हो सकते हैं। अगर दोनों में नजदीकी थी, तब पुराने कुछ सबूत मिल सकते हैं। इसकी पुलिस छानबीन कर रही है। पुलिस निखिल के कमरे को खंगालने पर सबूत मिलने का बात कर रही है।

पुलिस को मिला सुराग और हत्थे चढ़ा हांडा 

रविवार दोपहर को मेरठ शहर में निखिल की कार देखे जाने की सूचना मिली। फौरन पुलिस ने रेड कर निखिल को मेरठ से हिरासत में ले लिया। कार समेत टीम निखिल को दिल्ली ले आई। पूछताछ में आरोपी ने शैलजा की हत्या करने की बात को कबूल कर लिया। आरोपी ने बताया कि वह शैलजा से शादी करना चाहता था। लेकिन शैलजा लगातार शादी से इनकार कर रही थी। इससे वह काफी खफा था। इधर अमित की पोस्टिंग यूएन में होने वाली थी। शैलजा पति के साथ विदेश जाती, इससे पहले उसने शैलजा की हत्या कर दी। निखिल की तैनाती फिलहाल दीमापुर, नगालैंड में थी, वहीं अमित दिल्ली में तैनात था। जल्द ही अमित की पोस्टिंग यूएन में होने वाली थी। इसको लेकर निखिल चिंतित था। पुलिस निखिल से पूछताछ कर रही है।

हमेशा के लिए खामोश हो गईं मिसेज इंडिया अर्थ

निखिल से एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर जारी रखना नहीं चाहती थी शैलजा

मूल रूप से अमृतसर की रहने वाली शैलजा की उम्र 35 साल थी। शैलजा योग करती थीं। उनके लाइफ में खुशियां, अफसर पति ओर रुतबा सब कुछ था। आत्मविश्वासी, खुशमिजाज, जिंदादिल शैलजा इसी बलबूते मिसेज इंडिया अर्थ 2017 की फाइनलिस्ट रह चुकी थीं। शैलजा एक फैशन मैगजीन की कवर गर्ल भी रह चुकी थीं। उन्होंने अर्बन प्लानिंग में एमटेक की डिग्री हासिल की थी। इसके अलावा उन्होंने ट्रैवल एंड टूरिज्स से बैचलर्स और जिऑग्राफी से मास्टर्स किया हुआ था। मेजर अमित और शैलजा की शादी 2009 में हुई थी। शैलजा को डांसिंग, कुकिंग, बॉलिवुड म्यूजिक और हिंदी फिल्में देखने का बहुत शौक था। मिलनसार होने की वजह से शैलजा का फ्रेंड सर्कल भी काफी बड़ा था। अर्बन प्लानिंग में एमटेक शैलजा लेक्चरर थीं। हाल फिलहाल वह एक एनजीओ के साथ भी जुडी हुई थीं। शैलजा और अमित के 6 साल का एक बेटा भी है। शैलजा का कत्ल के बाद उसकी गाड़ी से कुचलने की कोशिश की ताकि इसे एक्सिडेंट बताया जा सके

 

 

 

 

 

Back to top button
E-Paper