महंगाई के विरोध में कांग्रेस ने फूंका केंद्र सरकार का पुतला

कोरोना की रोकथाम में राज्य सरकार पर विफलता का आरोप

भास्कर समाचार सेवा

रुद्रपुर। लगातार बढ़ रही महंगाई के खिलाफ कांग्रेस कार्यकारी जिलाध्यक्ष हिमांशु गावा के नेतृत्व में कांग्रेसियों ने रम्पुरा में विरोध प्रदर्शन के बीच केंद्र सरकार का पुतला फूंका। इस दौरान जिलाध्यक्ष हिमांशु गावा ने कहा कि प्रदेश और केंद्र की भाजपा सरकार संवेदनहीन हो चुकी है। सरकार कोरोना को रोकने में पूरी तरह नाकाम साबित हुई है। सरकार की गलत नीतियों के कारण न तो कोरोना पर नियंत्रण हो पाया और न ही अर्थव्यवस्था सुधर पाई है। सरकार के गलत फैसलों के चलते आज कारोबार पूरी तरह चौपट हो चुका है।

व्यापारियों के सामने भुखमरी का संकट खड़ा हो गया है। उद्योग धंधे और बाजार की हालत दयनीय हो चुकी है। व्यापारी लगातार बाजार खोलने की मांग कर रहे हैं, लेकिन सरकार को व्यापारियों के हितों से कोई सरोकार नहीं है। सरकार न पूरी तरह बाजार खोल रही है और न ही व्यापारियों को आर्थिक पैकेज देकर उन्हें कोई राहत दे रही है। सरकार की नीतियों की वजह से हजारों लोग बेरोजगार होकर घर बैठे हैं। भारी आर्थिक मंदी के बावजूद सरकार महंगाई पर नियंत्रण लगाने में नाकाम साबित हो रही है। सरकार की गलत नीतियों का खामियाजा उसे आगामी चुनावों में भुगतना पड़ेगा।

पूर्व जिला पंचायत उपाध्यक्ष संदीप चीमा ने कहा कि प्रदेश की भाजपा सरकार हर मोर्चे पर विफल साबित हुई है। आम जनता महंगाई, बेरोजगारी, बदहाल स्वास्थ्य सेवाओं जैसी कई जटिल समस्याओं से जूझ रही है। सरकार कोरोना की दूसरी लहर में भी स्वास्थ्य सेवाओं को सुधारने में नाकाम साबित हो रही है। सरकार की विफलताओं के चले ही सामाजिक संगठनों को मरीजों की सेवा के लिए खुद आगे आना पड़ रहा है। यदि लोग मरीजों की मदद के खुद आगे नहीं आते तो उत्तराखंड में कोरोना से मौत का आंकड़ा लाखों में होता। सरकार के गलत फैसलों के चलते कई लोगों की असमय मौत हुई, इसके लिए प्रदेश सरकार को तुरंत इस्तीफा देना चाहिए।

कांग्रेस नेता सीपी शर्मा ने कहा कि केंद्र और प्रदेश की भाजपा सरकार किसान, बेरोजगार, युवा और व्यापारी विरोधी है। इस सरकार ने आम जनता का जीना दूभर कर दिया गया है। इस दौरान जिला महासचिव मदन खन्ना, रिंकू शर्मा, संदीप कुमार, नवाब अली, जयदीप गंगवार, विरेंद्र कोली, राकेश कोली, गब्बर, कांती कोली, नत्थू लाल, नंद किशोर गंगवार आदि मौजूद थे।

संबंधित

Back to top button
E-Paper