कोरोनावायरस से अफ्रीका में 20 करोड़ के संक्रमित होने का खतरा

नई दिल्ली । विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के मॉडलिंग अध्ययन के अनुसार नोवल कोरोनावायरस से अफ्रीका में एक वर्ष में कम से कम 150,000 लोगों की मौत हो सकती है, और 20 से 25 करोड़ लोग कोविड-19 से संक्रमित होंगे। हालांकि शुक्रवार को प्रकाशित शोध के लेखकों ने यूरोप और अमेरिका जैसे दुनिया के अन्य हिस्सों की तुलना में कम संक्रमण दर, कम गंभीर मामलों और कम मौतों की भविष्यवाणी की है।

उन्होंने कहा कि कई अफ्रीकी राष्ट्रों ने कोरोनावायरस पर नियंत्रण के उपायों को अपनाने के प्रयास तेज किये हैं। फिर भी उन्होंने चेतावनी दी कि मौजूदा स्वास्थ्य प्रणाली पर अभी भी भारी बोझ पड़ सकता है। शोधकर्ताओं ने कहा कि यदि रोकथाम के उपाय विफल हो जाते हैं तो हमारा मॉडल स्वास्थ्य प्रणालियों के लिए समस्या के पैमाने की ओर इशारा करता है।

यह अध्ययन इस चेतावनी के बीच आया है कि कोविड-19 महामारी विकासशील देशों में स्वास्थ्य आपातकाल पैदा कर सकती है जहां कमजोर स्वास्थ्य प्रणालियां पहले से ही अन्य गंभीर बीमारियों के समूह से जूझ रही हैं।

विश्व स्वास्थ्य संगठन के अफ्रीका कार्यालय के विशेषज्ञों ने 47 देशों में कोरोनावायरस के संक्रमण के जोखिम की संभावना का क्षेत्रीय आधार पर आकलन किया है। इसके तहत जिबूती, मिस्र, लीबिया, मोरक्को, सोमालिया, सूडान और ट्यूनीशिया जैसे देश शामिल हैं।

इस क्षेत्र के एक अरब लोगों में से करीब 231 मिलियन लोगों या 22 प्रतिशत (16 से 26 प्रतिशत की सीमा के साथ) के 12 महीने की अवधि में संक्रमित होने की उम्मीद की जा रही है। उनमें से अधिकांश को हल्के या कोई लक्षण नहीं दिखने की संभावना है।

लेकिन करीब 46 लाख लोगों को अस्पताल में भर्ती करने की जरूरत होगी। जबकि 140,000 लोगों को कोविड-19 का गंभीर संक्रमण होगा और 89,000 गंभीर रूप से बीमार होंगे। इस अध्ययन ने सुझाव दिया है कि कोरोनावायरस से अफ्रीका में कुल 150,000 मौतें (83,000 और 190,000 के बीच) होंगी। मॉडलिंग में अनुमान लगाया गया है कि सामुदायिक प्रसारण की शुरुआत से एक वर्ष की अवधि में हर देश में क्या हालत होगी।

Back to top button
E-Paper